Sunday , August 19 2018

बहरीया के ब्रह्मोस मीज़ाईल का कामयाब तजुर्बा

अपने हथियारों की सलाहियत में मज़ीद इज़ाफ़ा करते हुए बहरीया ने आज एक इंतिहाई असरी ब्रह्मोस सोपर सांक क्रूज़ मीज़ाईल का कामयाब तजुर्बा क्या । ये मीज़ाईल साहिल गोवा पर एक जंगी जहाज़ से दाग़ा गया जिस की सलाहियत 290 कीलोमीटर तक वार करने की है ।

अपने हथियारों की सलाहियत में मज़ीद इज़ाफ़ा करते हुए बहरीया ने आज एक इंतिहाई असरी ब्रह्मोस सोपर सांक क्रूज़ मीज़ाईल का कामयाब तजुर्बा क्या । ये मीज़ाईल साहिल गोवा पर एक जंगी जहाज़ से दाग़ा गया जिस की सलाहियत 290 कीलोमीटर तक वार करने की है । ज़राए ने पी टी आई को बताया कि क्रूज़ मीज़ाईल को आई एन एस तेग़ से साहिल गोवा से आज सुबह की अव्वलीन साअतों में दाग़ा गया ।

ये मीज़ाईल किसी दीगर(अन्य‌) हथियार या जंगी सामान के बगैर दाग़ा गया और इस ने अपने निशाने पर बराबर वार किया । ज़राए ने कहा कि इस मीज़ाईल के निशाने पर लगने से वहां आग लग गई थी और इस ने अंदर तक ज़रब पहोनचाई है । ज़राए ने मज़ीद बताया कि ये मीज़ाईल इस तरह की टैक्नालोजी से तय्यार किया गया है कि दागे़ जाने के बाद ये सीधा परवाज़(उडान‌) करते हुए निशाने तक नहीं जाता बल्कि ये रास्ते में इधर उधर होता रहता है और फिर अचानक निशाना पर वार करता है ।

इस सलाहियत की वजह से दुश्मन को किसी कार्रवाई के दौरान हिंदूस्तानी जंगी जहाज़ों का पता चलाने में मुश्किल होगी । आई एन एस तेग़ रूस में तय्यार किया गया है और रूस में भी इस के पिछ्ले साल कामयाब तजुर्बे होगए हैं। कहा गया है कि मज़ीद दो बहरी जंगी जहाज़ों आई एन एस तरकश और आई एन एस तिरे कुंड को भी क्रूज़ मीज़ाईलों से लैस किया जाएगा।

कहा गया है कि इस मीज़ाईल के कामयाब तजुर्बा से उम्मीदें बंध गई हैं कि इस मीज़ाईल को रूसी बहरीया केलिए तय्यार किए जाने वाले बहरी जहाज़ों में भी नसब किया जा सकता है । कहा गया है कि इस मीज़ाईल को पहले ही फ़ौज और बहरीया में शामिल किया जा चुका है और फ़िज़ाईया में काम आने वाला मीज़ाईल भी तय्यारी के आख़िरी मराहिल में है ।

TOPPOPULARRECENT