बहुत ज्यादा सोना मौत का कारण बन सकता है!

बहुत ज्यादा सोना मौत का कारण बन सकता है!

वाशिंगटन डीसी: रात में छः से आठ घंटे से ज़्यादा सोना मृत्यु और कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों के बढ़ते जोखिम से जुड़ा हुआ है।

मैकमास्टर और पेकिंग यूनियन मेडिकल कॉलेज के हाल के एक अध्ययन के मुताबिक, आठ घंटों की अनुशंसित ऊपरी सीमा से अधिक लोग सोते हुए प्रमुख कार्डियोवैस्कुलर घटनाओं जैसे स्ट्रोक या दिल की विफलता के साथ-साथ 41 प्रतिशत तक की मौत के जोखिम में वृद्धि हुई।

अध्ययन के लेखकों ने समझाया, लेकिन इसके लिए एक संभावित कारण यह हो सकता है कि लोगों के पास अंतर्निहित स्थितियां हों जिससे उन्हें अधिक समय तक सोया जा सके, जिससे बदले में कार्डियोवैस्कुलर बीमारी या मौत का खतरा बढ़ सकता है।

अध्ययन के निष्कर्ष जर्नल ऑफ यूरोपीय हार्ट में दिखाई दिए।

टीम ने दिन में सोने वालों के बीच बढ़ते जोखिम की भी पहचान की।

एक शोधकर्ता चुआंगशी वांग ने कहा, “डेटाइम नॅपिंग उन लोगों में प्रमुख कार्डियोवैस्कुलर घटनाओं और मौतों के बढ़ते जोखिमों से जुड़ी हुई थी, जो रात के 6 घंटे से अधिक समय तक सोते थे, लेकिन रात में 6 घंटे से भी कम समय में सोते थे।”

जो लोग नींद के नीचे रात में नींद की कमी के लिए क्षतिपूर्ति करते हैं और जोखिम को कम करते हैं।

शोधकर्ताओं ने यह भी बताया कि छः घंटों के नीचे कम नींद होने से छह से आठ घंटे की सिफारिश करने वाले लोगों की तुलना में जोखिम में 9 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है।

Top Stories