Friday , December 15 2017

बांग्लादेश 15,000 रोहिंग्या को आदिवासी ज़िले से हटा सकता है

कोक्स बाज़ार: बांग्लादेश म्यांमार के सीमा के निकट एक निर्बाध पहाड़ी जिले में बसें 15,000 रोईंगिया शरणार्थियों को एक शिविर में ले जाना चाहता है।

म्यांमार में हिंसा भड़कने के बाद पिछले पांच हफ्तों में दक्षिण-पूर्व बांग्लादेश में आने वाले अनुमानित आधे से ज्यादा लाख लोग मारे गए हैं, जो सरकारी भूमि पर आ गये थे।

लेकिन मुख्य रूप से हजारों मुस्लिम शरणार्थियों ने बंदरबन्धन के जिलों में, चटगांव पहाड़ी इलाके के हिस्से में बस चुके हैं, जहां स्वदेशी जनजातियों ने 1980 और 1990 के दशक में अलगाववादी विद्रोह किया था।

बांग्लादेश के अधिकारियों का डर है कि उनकी उपस्थिति स्थानीय मुस्लिम आबादी और आदिवासी अल्पसंख्यकों के बीच सांप्रदायिक तनाव को पुनर्जीवित कर सकती है, जो कि मुख्य रूप से बौद्ध हैं।

बंदरबंन के सरकारी प्रशासक दिलीप कुमार बानिक ने एएफपी को बताया, “सरकार ने अब सभी 15,000 नए आबादी वाले रोहिंग्या को मुख्य शिविर में शिफ्ट करने का फैसला किया है।”

बाणिक ने कहा कि सरकार उन्हें सोमवार को हटाने के लिए “पहाड़ी जिले में शांति सुनिश्चित करना शुरू कर देगी।”

बांग्लादेश ने अपनी सीमाएं रोहिंग्या के लिए खोल दी हैं, जो अपने मूल म्यांमार में नागरिकता से वंचित हैं।

लेकिन उसने उन्हें आधिकारिक शरणार्थी की स्थिति नहीं दी है और स्पष्ट कर दिया है कि वे अनिश्चित काल तक रहने के लिए नहीं चाहते हैं।

अधिकारियों ने शरणार्थियों के आंदोलन को प्रतिबंधित कर दिया है, उन्हें भारी शिविर वाले क्षेत्रों को छोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है जहां सैकड़ों हज़ारों लोग बेसहारा परिस्थितियों में अपर्याप्त आश्रय के साथ रह रहे हैं।

बानिक ने कहा कि सरकार भी करीब 12,000 रोहंग्या को स्थानांतरित करना चाहती है जो बांग्लादेश और म्यांमार के पास फंसे हुए हैं।

जनजातीय समूहों ने 1997 में अपने अलगाववादी विद्रोह को समाप्त कर दिया और सरकार के साथ एक शांति संधि पर हस्ताक्षर किए।

इस साल जून में एक स्थानीय राजनीतिज्ञ की कथित हत्या के बाद स्थानीय मुसलमानों ने आदिवासी समुदाय के सैकड़ों मकानों को जलाया था।

और पिछले साल मई में एक 75 वर्षीय बौद्ध भिक्षु को बंदरबन्धन में मौत की सजा सुनाई गई थी, जिसका दावा डेश ग्रुप ने बाद में किया था।

TOPPOPULARRECENT