Thursday , November 23 2017
Home / Islami Duniya / बांग्‍लादेश की साबिक़ PM खालिदा जिया पर देशद्रोह का मामला दर्ज

बांग्‍लादेश की साबिक़ PM खालिदा जिया पर देशद्रोह का मामला दर्ज

epa03142027 Khaleda Zia, the country's former prime minister and leader of the main opposition Bangladesh Nationalist Party (BNP), waves to supporters during a BNP rally at Paltan in Dhaka, Bangladesh, 12 March 2012. Thousands of people supported the Bangladesh's main opposition party call for a general strike for 29 March to press demands for impartial oversight of elections set for 2014. EPA/ABIR ABDULLAH

ढाका: पाकिस्तान के खिलाफ 1971 के निजात संग्राम के शहीदों के खिलाफ मुबीना मुज़म्मति तब्सरा करने पर बांग्लादेश की साबिक़ PM व ऑपोजिट की लीडर बेगम खालिदा जिया के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया है। एक अदालती ऑफिसर ने बताया, ‘उनकी गिरफ्तारी की अपील करते हुए सोमवार सुबह खास मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट (ढाका) की अदालत में उनके खिलाफ मामला दर्ज किया गया।’अधिकारी ने बताया कि मजिस्ट्रेट ने गिरफ्तारी वारंट जारी करने की अपील पर बाद में सुनवाई करने के हुक्म दिए हैं।

पिछले साल 21 दिसंबर को एक बहस में 70 साल की खालिदा ने 1971 के आज़ादी संग्राम में मरने वालों की तादाद पर शक जताई थी। बांग्लादेश नेशनल पार्टी की चीफ ने कहा था, ‘इस पर तनाज़ा है कि आज़ादी संग्राम में कितने लोग शहीद हुए थे। तनाज़े पर ढेर सारी किताबें और दस्तावेज भी हैं।’ खालिदा की बीएनपी कट्टरपंथी जमात-ए-इस्लामी की अहम हिमायती पार्टी है। जमात ने पाकिस्तान से बांग्लादेश की आजादी का एहतजाज किया था। हुक्मरान अवामी लीग, 1971 के मुक्ति संग्राम में हिस्सा लेने वाले लोग और उस लड़ाई में शहीद हुए लोगों के परिवार ने जिया की तब्सरे पर तीखी तब्सरा की थी। कुछ ने उन्हें ‘पाकिस्तान की एजेंट’ तक कहा था।

रविवार को ही वज़ारते दाखला ने साबिक़ PM के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज कराने के लिए मंजूरी हासिल की थी। सोमवार को उस पर कदम उठाया गया। सुप्रीम कोर्ट क एडवोकेट मुमताजउद्दीन अहमद मेहदी ने 27 दिसंबर को दरखास्त किया था कि बांग्लादेश की सज़ा एखलाक की दफा 123 (ए) के तहत खालिदा के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाया जाए। उस वक्त मजिस्ट्रेट ने पुलिस को आरोप की जांच करने का आदेश दिया था और याचिकाकर्ता से कहा था कि वह देशद्रोह का मुकदमा चलाने के लिए सरकार से इजाजत लें। बांग्लादेश के कानून के तहत ऐसा करना लाज़मी है।

TOPPOPULARRECENT