Saturday , December 16 2017

बांदा में काऊ शेल्टरों से गौ मूत्र की बिक्री की शुरूआत‌

बांदा: उत्तरप्रदेश के बांदा में आवारा पशुओं की परंपरा (अन्ना प्रथा ख़त्म करने के लिए बनाए गए काऊ शैल्टरों में जमा गौ मूत्र को बेचकर के इस की आमदनी के ज़रिए बढ़ाना शुरू कर दिए गए हैं, बुंदेलखंड में किसानों को सब से बड़े आवारा जानवरों के समस्या से निजात दिलाने के लिए काऊ शेल्टर बनाकर और यहां जानवरों को ला उन्हें सुरक्षित करने का इंतेज़ाम किए गए हैं।

ज़िला मजिस्ट्रेट महिन्द्र बहादुर सिंह ने आज यहां बताया कि तिन्दवारी विकास बलॉक के साड़ी गांव में स्थापित काऊ शेल्टर में कल तक 40 लीटर गौ मूत्र जमा किया गया था, जिसे हमीर पूर के क़स्बा मोधा में स्थित एक कंपनी को चार हज़ार रुपय में बेच कर राशि काऊ शेल्टर के काम आज‌ में ख़र्च करने के लिए दे दी गई है। उन्होंने बताया कि10 किलो गौ मूत्र में एक किलो नियम, एक किलो मदार और एक किलो धतूरा को मिलाकर दवाएं बनाने के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जाता है।

ज़िला मजिस्ट्रेट ने कहा कि गौ मूत्र से तैयार जरासीम दवाओं को किसान अपने खेतों में इस्तेमाल कर सकते हैं और ज़्यादा तैयार होने पर उसे 125 रुपये प्रति लीटर बेच‌ कर के अपनी आमदनी भी बढ़ा सकते हैं।

TOPPOPULARRECENT