Wednesday , January 17 2018

बानी जामिआ निज़ामीया सदी तक़ारीब में शिरकत से चीफ़ मिनिस्टर का इत्तेफ़ाक़

चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने बानी जामिआ निज़ामीया हज़रत मौलाना मुहम्मद अनवार उल्लाह फ़ारूक़ी फ़ज़ीलत जनग की सद साला उर्स तक़ारीब में शिरकत से इत्तेफ़ाक़ करलिया है।

चीफ़ मिनिस्टर के चन्द्रशेखर राव‌ ने बानी जामिआ निज़ामीया हज़रत मौलाना मुहम्मद अनवार उल्लाह फ़ारूक़ी फ़ज़ीलत जनग की सद साला उर्स तक़ारीब में शिरकत से इत्तेफ़ाक़ करलिया है।

जामिआ निज़ामीया के एक वफ़द ने अमीर जामिआ मौलाना सय्यद अकबर निज़ामुद्दीन हुसैनी साबरी की क़ियादत में चीफ़ मिनिस्टर से मुलाक़ात की। वफ़द में शेख़ उलजा जामिआ मौलाना मुफ़्ती ख़लील अहमद और मौलाना ख़्वाजा शरीफ़ और दूसरे मौजूद थे।

वफ़द ने चीफ़ मिनिस्टर को बानी जामिआ निज़ामीया के उर्स में शिरकत की दावत दी। बताया जाता हैके चीफ़ मिनिस्टर ने ना सिर्फ़ शिरकत से इत्तेफ़ाक़ किया बल्कि जामिआ निज़ामीया के अहाते में आडीटोरीयम की तामीर में हुकूमत की तरफ से मुकम्मिल तआवुन का यक़ीन दिलाया।

बानी जामिआ निज़ामीया की सदी तक़ारीब को बड़े पैमाने पर मनाया जा रहा है। चीफ़ मिनिस्टर से मुलाक़ात के दौरान उर्दू मदारिस में असातिज़ा की कमी का मसला भी ज़ेर-ए-बहिस रहा। चीफ़ मिनिस्टर ने वज़ीर-ए-ताअलीम-ओ-डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर कडीम श्रीहरी को हिदायत दी कि उर्दू मदारिस में असातिज़ा की कमी को फ़ौरी दूर किया जाये और मख़लवा जायदादों पर तक़र्रुत अमल में लाए जाएं। इस मौके पर डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर मुहम्मद महमूद अली, रुकन क़ानूनसाज़ कौंसिल मुहम्मद सलीम और रुकने असेंबली आमिर शकील भी मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT