Tuesday , December 12 2017

बाबरी मस्जिद की यौम शहादत के मौक़ा पर आज यौम-ए-स्याह और एहतिजाजी बंद

हैदराबाद, 06 दिसंबर (सियासत न्यूज़) बाबरी मस्जिद की शहादत के 20 बरसों की तकमील पर मुख़्तलिफ़ मिली-ओ-सयासी तनज़ीमों की जानिब से आंधरा प्रदेश में 6 दिसंबर को यौम ए स्याह और बंद मनाते हुए एहतिजाज करने का फैसला किया गया है जबकि पुलिस नज़म-ओ-नस

हैदराबाद, 06 दिसंबर (सियासत न्यूज़) बाबरी मस्जिद की शहादत के 20 बरसों की तकमील पर मुख़्तलिफ़ मिली-ओ-सयासी तनज़ीमों की जानिब से आंधरा प्रदेश में 6 दिसंबर को यौम ए स्याह और बंद मनाते हुए एहतिजाज करने का फैसला किया गया है जबकि पुलिस नज़म-ओ-नसक़ की जानिब से इस मर्तबा वसीअ तर बंद-ओ-बस्त किया जा रहा है।

क़ानून नाफ़िज़ करने वाली एजेंसियों को ख़दशा है कि मजलिस की बरसर‍ ए‍ इक्तेदार कांग्रेस के साथ जारी देरीना रिफ़ाक़त के ख़ातमा के पेश नज़र इस मर्तबा ला एंड आर्डर की सूरत-ए-हाल को बिगाड़ने की कोशिश की जा सकती है इसलिए हालात को क़ाबू में रखने के लिए वसीअ तर बंद-ओ-बस्त किया जा रहा है। याद रहे कि हर साल की तरह इस मर्तबा भी कई मुस्लिम तनज़ीमों और मजलिस बचाओ तहरीक ने 6 दिसंबर को यौम ए स्याह और बंद मनाने का ऐलान किया है।

बाबरी मस्जिद की शहादत के 20 बरसों की तकमील पर शहर और रियासत के मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर मिली तनज़ीमों की जानिब से एहतिजाजी जलसों का एहतिमाम किया गया और 6 दिसंबर को गवर्नर और ज़िला कलेक्टर उनको याददाश्तें पेश करते हुए बाबरी मस्जिद की इसी मुक़ाम पर आजलाना तामीर के साथ साथ मस्जिद को शहीद करने वाले मुल्ज़िमीन को क़रार वाक़ई सज़ा देने का मुतालिबा किया जाएगा।

मजलिस बचाओ तहरीक के इलावा तहरीक मुस्लिम शबान, अवामी मजलिस-ए-अमल, सदर सिटी तेलगुदेशम अक़ल्लीयती सेल मिस्टर शहबाज़ अहमद ख़ान, मुत्तहदा तहफ़्फ़ुज़ शरीयत कमेटी, मौलाना नसीर उद्दीन वहदत इस्लामी और दीगर गैर अहम तनज़ीमों की जानिब से बाबरी मस्जिद की शहादत की याद में एहतिजाज करने की अपील की गई।

इन तनज़ीमों ने मुसलमानों से अपील की कि वो अपने दस्तूरी हक़ को इस्तेमाल करते हुए पुरअमन अंदाज़ में बाबरी मस्जिद की शहादत पर अपना एहतिजाज दर्ज करवाएं और मुसलमानों के एहसासात से हुकूमतों, इंतिज़ामीया और सयासी पार्टियों के ज़िम्मेदारों को वाक़िफ़ करवाते हुए सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद मलकीत मुक़द्दमा की यौमिया असास पर समाअत करते हुए मुसलमानों के साथ इन्साफ़ रसानी को यक़ीनी बनाने में तआवुन करने का मुतालिबा करें।

बाबरी मस्जिद की शहादत पर जमहूरी अंदाज़ में एहतिजाज करने की कई सैक्यूलर और अमन पसंद गैर मुस्लिम शहरियों ने भी अपील की है। बरसर‍ ए‍ इक्तेदार कांग्रेस से मजलिस की देरीना रिफ़ाक़त को ख़त्म कर लेने पर क़ानून नाफ़िज़ करने वाली एजेंसियों को ये ख़दशा है कि बाबरी मस्जिद की शहादत पर एहतिजाज को तशद्दुद का रुख़ दिया जा सकता है और ख़ासकर पुराने शहर में ला ऐंड आर्डर की सूरत ए हाल को बिगाड़ने की कोशिश की जा सकती है।

कमिशनर आफ पुलिस हैदराबाद मिस्टर अनुराग शर्मा ने 6 दिसंबर को यौम ए स्याह और बंद के पेश नज़र शहर में ला एंड आर्डर की सूरत-ए-हाल का अपने मा ‍‍ए तहेत के साथ जायज़ा लिया और ये हिदायत दी कि किसी को भी नज़म-ओ-क़ानून में रखना डालने की इजाज़त ना दी जाए और क़ानून की ख़िलाफ़वर्ज़ी करने वालों के साथ सख़्ती से निमटा जाए मगर इस बात का भी ख़्याल रखा जाए कि पुलिस के बंद-ओ-बस्त से आम लोगों को किसी किस्म की तकलीफ़ या मुश्किल पेश ना आए।

पुराने शहर में आज रात से ही पुलिस फ़ोर्स की तैनाती में इज़ाफ़ा कर दिया गया है और मुख़्तलिफ़ हस्सास मुक़ामात पर पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है।

TOPPOPULARRECENT