Sunday , December 17 2017

बाबरी मस्जिद मुक़द्दमा की समात महीना में सिर्फ तीन दिन

लखनऊ २६ नवंबर ( नाफ़े क़दवाई )बाबरी मस्जिद इन्हिदाम मुक़द्दमा की समाअत राय बरेली की सी बी आई की ख़ुसूसी अदालत में महीना में कम से कम तीन रोज़ होगी या फिर मुक़द्दमा की समाअत महीना डेढ़ दो महीना में एक मर्तबा होगी इस बाबत इलहाबाद हाइकोर्ट

लखनऊ २६ नवंबर ( नाफ़े क़दवाई )बाबरी मस्जिद इन्हिदाम मुक़द्दमा की समाअत राय बरेली की सी बी आई की ख़ुसूसी अदालत में महीना में कम से कम तीन रोज़ होगी या फिर मुक़द्दमा की समाअत महीना डेढ़ दो महीना में एक मर्तबा होगी इस बाबत इलहाबाद हाइकोर्ट की लखनऊ की दो रुकनी बैंच जो मिस्टर जस्टिस ऐस एन शुक्ला और मिस्टर जस्टिस एस वि एस राठौर पर मुश्तमिल थी सी बी आई और मुक़द्दमा के आठ मुल्ज़िमान के वुकला की दो रोज़ बेहस सुनने के बाद अपना फ़ैसला महफ़ूज़ करलिया ।

याद रहे कि बाबरी मस्जिद इन्हिदाम मुक़द्दमा राय बरेली की सी बी आई की ख़ुसूसी अदालत में 1993 -ए-से चल रहा है , अभी तक इस मुक़द्दमा में गवाह एक तिहाई ही पेश हो सके । मुक़द्दमा इंतिहाई सुस्त रफ़्तारी से चल रहा है , 18 बरस मुक़द्दमा चलते हुए होगए हैं गुज़श्ता दिनों सी बी आई ने रजिस्ट्रार इलहाबाद हाइकोर्ट के सामने एक दरख़ास्त गुज़ारी कि वो इस मुक़द्दमा को जल्द फ़ैसला कराने केलिए सी बी आई की ख़ुसूसी अदालत को हिदायत दें कि वो मुक़द्दमा की समाअत महीना में कम से कम तीन रोज़ करे ।

रजिस्ट्रार इलहाबाद हाइकोर्ट ने सी बी आई की इस दरख़ास्त को ज़िला-ओ-सैशन जज के पास ज़रूरी कार्रवाई , हिदायत जारी करने के लिए भेज दी । ज़िला-ओ-सैशन जज ने सी बी आई के ख़ुसूसी अदालत के जज एडीशनल ज़िला-ओ-सैशन जज राय बरेली को हिदायत दी कि वो इस मुक़द्दमा की समाअत महीना में कम से कम तीन रोज़ करें ।
ज़िला-ओ-सैशन जज के इस हिदायत के जवाज़ को बाबरी मस्जिद इन्हिदाम मुक़द्दमा के आठों मुल्ज़िमान की तरफ़ से विष्णु हरी डालमिया जो ख़ुद भी मुल्ज़िम हैं इलहाबाद हाइकोर्ट की बंच के सामने चैलेंज किया ।

TOPPOPULARRECENT