Saturday , November 18 2017
Home / India / बाबरी मस्जिद मुक़द्दमा के शवाहिद की यौमिया समाअत

बाबरी मस्जिद मुक़द्दमा के शवाहिद की यौमिया समाअत

लखनऊ ०९ दिसम्बर। ( पी टी आई ) इलहाबाद हाइकोर्ट ने बाबरी मस्जिद इन्हिदाम (शहादत ) मुक़द्दमा में वि एच पी लीडर की दरख़ास्त को मुस्तर्द करते हुए राय बरेली ट्रायल कोर्ट को यौमिया असास पर शवाहिद रिकार्ड करने की हिदायत दी।

लखनऊ ०९ दिसम्बर। ( पी टी आई ) इलहाबाद हाइकोर्ट ने बाबरी मस्जिद इन्हिदाम (शहादत ) मुक़द्दमा में वि एच पी लीडर की दरख़ास्त को मुस्तर्द करते हुए राय बरेली ट्रायल कोर्ट को यौमिया असास पर शवाहिद रिकार्ड करने की हिदायत दी।

जस्टिस श्री नारायण शुक्ला और जस्टिस सुरेंद्र विक्रम सिंह राठौड् पर मुश्तमिल हाइकोर्ट की लखनऊ बंच ने वि एच पी लीडर विष्णु हरी डालमिया की रट दरख़ास्त को मुस्तर्द करते हुए ये हिदायत जारी की । विष्णु हरी डालमिया इस मुक़द्दमा में दीगर 8 मुल्ज़िमीन में शामिल हैं।

उन्हों ने अपनी दरख़ास्त में 22 जुलाई को डिस्ट्रिक्ट ऐंड सैशन कोर्ट राय बरेली के दिए गए हुक्म को चैलेंज किया थाजिस में ट्रायल कोर्ट को इस मुक़द्दमा की समाअत केलिए हर माह कम अज़ कम 10 दिन मुक़र्रर करने की हिदायत दी गई थी । मुक़द्दमा के दीगर मुल्ज़िमीन ने बी जे पी लीडर्स एल के अडवानी , मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती के इलावा हिंदूतवा कारकुन साध्वी रथमबरा शामिल हैं।

डीवीजन बंच ने इस ख़्याल का काइज़हार किया कि इस मुक़द्दमा में अदालत को अपने जायज़ इख़्तयारात का भरपूर इस्तिमाल करते हुए ट्रायल कोर्ट को ज़रूरी हिदायत देने का हक़ हासिल है ताकि मुआमले की आजलाना यकसूई यक़ीनी हो सके।

डालमिया ने कहा था कि सैशन कोर्ट का हुक्मनामा क़ानूनी एतबार से मुनासिब नहीं । उन्हों ने दावा किया था कि जज को इस तरह की हिदायत देने का इख़तियार नहीं । इन का ये इस्तिदलाल भी था कि दिफ़ाई वुकला दूरदराज़ मुक़ामात से यहां आरहे हैं और उन्हें सैशन कोर्ट के हुक्म की बुनियाद पर अदालत में होने वाली समाअत के दौरान शिरकत केलिए मुश्किलात होंगी ।

TOPPOPULARRECENT