Saturday , June 23 2018

बाबरी मस्जिद शहादत के 20 साल शहर ए हैदराबाद में बंद पुरअमन

बाबरी मस्जिद शहादत की 20 बरस की तकमील के मौके पर आज शहर में योम-ए-स्याह बंद मुकम्मल तौर पर पुरअमन रहा| शहर के कई इलाक़ों में रज़ा काराना तौर पर कारोबारी इदारे बंद रहे और पुराने शहर में बंद मुकम्मल तौर पर देखा गया ।

बाबरी मस्जिद शहादत की 20 बरस की तकमील के मौके पर आज शहर में योम-ए-स्याह बंद मुकम्मल तौर पर पुरअमन रहा| शहर के कई इलाक़ों में रज़ा काराना तौर पर कारोबारी इदारे बंद रहे और पुराने शहर में बंद मुकम्मल तौर पर देखा गया ।

कई इलाक़ों में सड़कें ख़ामोश और सुनसान देखी गईं जबके अक्सर मुक़ामात पर रात देर गए से नसब करदा स्याह झंडियों को पुलिस ने निकाल दिया था। बाबरी मस्जिद की 20 वीं बरसी के मौके पर आज पुराने शहर में नाख़ुशगवार वाक़ियात पेश आने के पुलिस की तरफ से क़वी इमकानात ज़ाहिर किए जा रहे थे, ताहमऐसा कुछ भी नहीं हुआ और ना ही कोई नाख़ुशगवार वाक़िया पेश आया ।

रियासत की बदलती सयासी सूरत-ए-हाल और देरीना दोस्तों की आपस में दुश्मनी के असरात भी शहर के हालात पर असर अंदाज़ ना हो सके और ना ही हालिया शर पसंदों की हरकतें पुरअमन माहौल को बिगाड़ सकीं ।

मुस्लमानों ने ये साबित कर दिया कि अमन इन का बुनियादी अमल है, जिस का पुलिस ज़राए ने ख़दशा ज़ाहिर किया था और पुराने शहर की अवाम ने अपने अंदाज़ में पुरअमन तौर पर बंद मनाते हुए अपने मिल्ली जज़बे का सबूत दे दिया और साथ ही इस बात का भी इशारा दे दिया कि वो किसी भी साज़िश में अब आसानी से हिस्सा लेने वाले नहीं ।

पुलिस ने ख़ुद इस बात को महसूस किया और कमिशनर पुलिस ने ख़ुद एतराफ़ करते हुए पुराने शहर के अवाम को काबिल मुबारकबाद क़रार दिया, ताहम पुलिस की ग़ैर ज़रूरी हरकतें और हद से ज़्यादा मुस्तइद्दी अवाम के लिए मुश्किलात का बाइस बनी रही ।

पुलिस ने कल रात ही से हस्सास इलाक़ों को घेर‌ लिया था और तमाम मुश्तबा अफ़राद पर सख़्त नज़र रखते हुए साबिक़ में पुर तशद्दुद वाक़ियात में मुलव्विस अफ़राद को पाबंद कर दिया था, ताहम पुलिस की तरफ से नमाज़ के औक़ात अमल में लाई जा रही हिक्मत-ए-अमली जिस को पुलिस क़ियाम अमन का हिस्सा क़रार दे रही है शहरीयों में तशवीश और बरहमी का बाइस बनी हुई है ।

पुलिस ने आज चारमीनार के दामन में कसीर तादाद में मौजूद थी| जैसे ही नमाज़ ज़ुहर के लिए मक्का मस्जिद में अज़ां हुई, पुलिस फ़ौरी हरकत में आगई और जंग से क़ब्ल मोरचा सँभालने की तरह बैरिकिट्स के साये में मक्का मस्जिद पर नज़रें जमाए रही ।

और ऐन वक़्त पुलिस के आला ओहदेदारों की आमद और हरकत ने अवाम को तशवीश में मुबतला कर दिया। जैसे ही नमाज़ ख़त्म हुई पुलिस ने रास्तों को तंग करते हुए चारमीनार से मक्का मस्जिद की तरफ वाले रास्ते के रुख़ को मोड़ दिया और मुसल्लह फ़ोर्स को जमा कर दिया और ख़ारदार तारों से हर छोटे रास्ते को बंद कर दिया गया जिस से नमाज़ियों और आम शहरीयों को काफ़ी मुश्किलात का सामना करना पड़ा ।

बताया जाता है कि पुलिस ने पुराने शहर के तमाम हस्सास इलाक़ों में पुलिस के दस्ते ताय्युन कर दिए थे और शहर की फ़ोर्स के अलावा अज़ला से भी फ़ोर्स को तलब कर लिया गया था और सी सी टी वी कैमरों को नसब कर दिया गया था ।

आज योम-ए-स्याह और बंद के पेशे नज़र और कल जुमा के ख़सूस में मुख़्तलिफ़ अफ़्वाहों का बाज़ार गर्म रहा और अवाम में बेचैनी देखी गई ।

रात देर गए तक भी पुराने शहर में कोई नाख़ुशगवार वाक़िया पेश नहीं आया और पुलिस ने अपनी सख़्त चौकसी को बरक़रार रखे हुए थी । योम-ए-स्याह और बंद के पुरअमन इखतेताम पर पुलिस ने चैन की सांस ली।

TOPPOPULARRECENT