Saturday , December 16 2017

बालकृष्णन के असासा जात की आई टी रिपोर्ट सी बी डी टी के हवाले

महिकमा इनकम टैक्स ने साबिक़ चीफ़ जस्टिस आफ़ इंडिया और एन एच आर सी सरबराह के जी बालकृष्णन और उन के अरकान ख़ानदान के ज़रीया मुख़्तलिफ़ तिजारतों में सरमाया कारी और उन के असासा जात पर मुश्तमिल एक रिपोर्ट सी बी डी टी के हवाले की है।

महिकमा इनकम टैक्स ने साबिक़ चीफ़ जस्टिस आफ़ इंडिया और एन एच आर सी सरबराह के जी बालकृष्णन और उन के अरकान ख़ानदान के ज़रीया मुख़्तलिफ़ तिजारतों में सरमाया कारी और उन के असासा जात पर मुश्तमिल एक रिपोर्ट सी बी डी टी के हवाले की है।

सैंटर्ल बोर्ड आफ़ डाइरेक्ट टेक्सस (CBDT) इस रिपोर्ट की जांच पड़ताल कर रही है, जिस की तैयारी इनकम टैक्स तहक़ीक़ाती विंग मौक़ूआ कूची ने की है और इस के लिए उन्हें महिकमा इनकम टैक्स की मुंबई तहक़ीक़ाती टीम का तआवुन हासिल था। याद रहे कि मिस्टर बालकृष्णन के मुताल्लिक़ मुकम्मल तहक़ीक़ाती रिपोर्ट सी बी डी टी को गुज़शता साल में हवाले की गई थी और अब साबिक़ चीफ़ जस्टिस और उनके अरकान ख़ानदान की जानिब से मुख़्तलिफ़ तिजारतों में सरमाया कारी और असासा जात-ओ-इमलाक की तहक़ीक़ात अब मुकम्मल हुई हैं।

इनकम टैक्स के एक आला सतही ओहदेदार ने ये बात बताई। अलबत्ता ओहदेदार ने रिपोर्ट में दर्ज दीगर तफ़सीलात के बारे में कुछ नहीं बताया। कूची लाए जी (इनकम टैक्स तहक़ीक़ात) ई टी लकोज़ ने गुज़शता साल कहा था कि बालकृष्णन के दो रिश्तेदारों की ज़राए आमदनी की तहक़ीक़ात किए जाने के बाद काले धन का मुआमला भी सामने आया था।

सुप्रीम कोर्ट ने कल ही मर्कज़ी हुकूमत को हिदायत दी हीका वो अदालत को इस बात से मतला करे कि आज बालकृष्णन के मुआमला में कोई तहक़ीक़ात की गई है या नहीं क्योंकि बालकृष्णन को एक अर्सा से अपनी मालूम आमदनी से ज़ाइद असासा जात रखने के इल्ज़ामात का सामना है।

चीफ़ जस्टिस एस एच कपाडि़या की क़ियादत वाली एक बंच ने हुकूमत को हिदायत की हीका साबिक़ चीफ़ जस्टिस से मरबूत रिपोर्ट का इदख़ाल अंदरून एक माह किया जाए या अगर तहक़ीक़ात का आग़ाज़ ही नहीं हुआ है तो ये बताया जाय कि आख़िर हुकूमत का मंशा-ए-किया है। तहक़ीक़ात की जाएंगी या नहीं।

बंच ने अटार्नी जनरल जी ई वाहनोटी को भी अंदरून एक माह पूरी तफ़सीलात पेश करने की हिदायत की है।

TOPPOPULARRECENT