Thursday , July 19 2018

बाल मजदूरी ख़त्म कियें बिना भारत इकनोमिक पावर नही बन पायेगा -कैलाश सत्यार्थी

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा है कि भारत का लक्ष्य इकनोमिक पावर बनने का है, लेकिन जब तक देश में लाखों बच्चों का शोषण होता रहेगा तब तक यह सपना पूरा नहीं हो सकता।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

बाल मजदूरी के खिलाफ अभियान चलाने वाले सत्यार्थी ने मजदूर दिवस के अवसर पर बाल मजदूरी वाले कानूनों का कड़ाई से लागू करने की अपील करते हुए कहा कि बच्चों की दासता की स्लेट पर कभी भी इकनोमिक पावर की इबारत नहीं लिखी जा सकती।

उन्होंने कहा कि 1986 का बाल मजदूर कानून अपनी सभी खामियों के साथ अब भी मौजूद है और मालिक उसका इस्तेमाल बाल मजदूरों का शोषण करने के लिए करते हैं। उन्होंने कहा, ‘इस कानून में कहा गया है कि 14 वर्ष तक के बच्चों से काम नहीं कराया जाएगा, लेकिन इसमें 15 से 18 वर्ष की उम्र के बीच के बच्चों के बारे में कुछ नहीं कहा गया है।

सत्यार्थी के एनजीओ ‘बचपन बचाओ आंदोलन’ ने 1980 से लेकर अब तक 80757 बाल और बंधुआ मजदूरों को छुडाया है।

TOPPOPULARRECENT