Saturday , November 18 2017
Home / India / बिजली तार में टकराने से बस में लगी आग, 28 ने कूदकर बचाई जान, 2 की हुई मौत

बिजली तार में टकराने से बस में लगी आग, 28 ने कूदकर बचाई जान, 2 की हुई मौत

जयपुर: राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के अनूपगढ़ में हाइटेंशन तार से बस के टकराने से बस में आग लग गई. हादसे में दो लोगों की मौके पर मौत हो गई है जबकि 4 से 5 लोग घायल हुए हैं. 28 लोगों ने बस से कूदकर अपनी जान बचाई. बस में तीस लोग सवार थे. बताया जा रहा है कि श्रीगंगानगर में किसानों का चक्काजाम होने की वजह से बस वहां की गलियों से सवारी लेकर जा रही थी. उसी वक़्त हाइटेंशन वायर से बस टकरा गई और बस में आग लग गई. हादसे के बाद सरकार ने मरने वालों को 50-50 हजार रुपये और घायलों को 5-5 हज़ार रुपये मुआवजे का ऐलान किया है.

बस 7:20 बजे अनूपगढ़ स्टैंड से रवाना हुई थी. बस शहर के उधम सिंह चौक से नाहरांवाली मार्ग पर महज एक किलोमीटर आगे भी नहीं पहुंची कि एक गली में ट्रांसफार्मर से पहले ही 11 हजार की लाइन के बिजली के ढीले तारों से टकरा गई. इससे बस में करंट आ गया और देखते ही देखते बस धू-धू कर जलने लगी. बस में मौजूद यात्रियों में हड़कंप मच गया. ज्यादातर ने बस से कूदकर जान बचाई. हादसे के बाद अनूपगढ़ और आसपास के गांवों से सैकड़ों लोग मौके पर पहुंचे और अपने स्तर पर ही आग बुझाने का काम शुरू किया।

घटना के बाद चालक और परिचालक मौके से भाग गए। मृतकों में एक 12 एनपी रायसिंहनगर का रामलाल नायक पुत्र नानूराम उम्र करीब 37 वर्ष और दूसरा परमाराम पुत्र भूराराम जाति ब्राह्मण उम्र 60 वर्ष निवासी 365 हैड का बताया जा रहा है। हादसे के तुरंत बाद बीएसएफ -अनूपगढ़ व आम लोगों ने ही अपने स्तर पर टैंकरों से आग पर काबू पाया।

उधर, सूचना के बाद कलेक्टर ज्ञानाराम और एसपी हरेंद्र महावर भी देर रात 12 बजे अनूपगढ़ पहुंचे। एसपी ने बताया कि जिस रास्ते चालक ने बस को ले जाना चाहा वह तो आगे जाकर बंद होता है। इससे पता चलता है कि चालक इस रास्ते से अनजान था और उसकी लापरवाही से ही यह हादसा हुआ है। जिन दो लोगों की मृत्यु हुई है वे किसी काम से बाजार आए थे। किसान चक्काजाम से उनका कोई लेनादेना नहीं था।

दरअसल किसानों की हड़ताल और बंद के बीच रोडवेज बसें बंद थीं। ऐसे में कुछ निजी बस संचालक इसलिए अपनी बसें चलाते हैं कि उन्हें सवारियां अधिक मिलेंगी। इतना ही नहीं, जाम से बचने के लिए कई बार कच्चे और ऊबड़-खाबड़ या नए रास्तों से अमूमन बसें निकाली जाती हैं। बुधवार को भी यही हुआ। एक संचालक का पैसों का लालच दो परिवारों को बर्बाद कर गया।

TOPPOPULARRECENT