Saturday , December 16 2017

बिजली बोर्ड करेगा 15000 नई तकर्रुरी, अमल जुलाई से

रियासत हुकूमत बिजली कंपनियों में खाली ओहदे को जल्द भरेगी। इसके लिए जुलाई से अमल शुरू की जाएगी। इसके तहत 15000 ओहदे पर बहाली होगी। झारखंड बंटवारे के बाद तूअनाई महकमा में मैन पावर की कमी है। इंजीनियर से लेकर ग्रिड हेल्पर तक के हजारों ख

रियासत हुकूमत बिजली कंपनियों में खाली ओहदे को जल्द भरेगी। इसके लिए जुलाई से अमल शुरू की जाएगी। इसके तहत 15000 ओहदे पर बहाली होगी। झारखंड बंटवारे के बाद तूअनाई महकमा में मैन पावर की कमी है। इंजीनियर से लेकर ग्रिड हेल्पर तक के हजारों खाली ओहदे पर तकर्रुरी नहीं होने से बिजली सप्लाय की हालात मुसलसल खराब है। रियासत बंटवारे के बाद 22000 मुलाज़िमीन झारखंड रियासत बिजली बोर्ड के हिस्से में आए थे, लेकिन इनके रिटायर होने के बाद नई तकर्रुरी नहीं हुई। इस वजह से झारखंड की बिजली कंपनियों में जरूरत के मुक़ाबले में महज़ 30 फीसद मुलाज़िमीन हैं।

जहां एक पावर सब स्टेशन पर सात मुलाज़िमीन होने चाहिए, वहां एक है। इससे लोकल फॉल्ट जैसी मसायलों के बेहतरी में वक़्त लगता है। तूअनाई वज़ीर राजेंद्र सिंह ने गुजिशता दिनों तूअनई सेक्रेटरी बीके त्रिपाठी को महकमा में नई तकर्रुरी के लिए काम करने को कहा था। हालांकि, तकर्रुरी अमल पूरी होने में दो से तीन महीने लग सकते हैं।

काबीना से जल्द मंजूरी

जल्द ही कैबिनेट से मंजूरी लेकर तकर्रुरी अमल शुरू की जाएगी। उम्मीद है जुलाई में इस पर काम शुरू हो जाएगा। मैनपावर होने पर बिजली मसायलों को तेजी से सुधारा जा सकेगा।
एसएन वर्मा, सदर झारखंड पावर डेव्लपमेंट कॉर्पोरेशन

TOPPOPULARRECENT