Saturday , November 25 2017
Home / Entertainment / बिना संघर्ष के सफलता कहाँ मिलती है: श्रुति हासन

बिना संघर्ष के सफलता कहाँ मिलती है: श्रुति हासन

एक साथ एक्टिंग, सिंगिंग, मॉडलिंग, नृत्य और संगीत में महारत‌ रखने वाली किसी एक्ट्रेस का नाम लिया जाए तो वह श्रुति हासन है। साउथ  सुपर स्टार कमल हसन और हिंदी फिल्मों की एक्ट्रेस सारिका की बेटी ने अपने फिल्म कीरेयर में विभिन्न भाषाओं की 20 फिल्में की हैं। कई फिल्मों के गीतों को अपनी आवाज दी है। मॉडलिंग में भी नाम कमाया है और देश-विदेश डांस के कई कॉन्टेस्ट दे चुकी हैं। श्रुति हसन को हिट  अभिनेत्री कहा जा सकता है वैसे श्रुति ने साल 2000 में आई अपने पिता के डायरेकशन में बनी फिल्म ” हे राम ‘ में वल्लभ भाई पटेल की बेटी अतिथि रोल किया था, लेकिन बतौर हीरोइन उन्हें 2009 में रिलीज हुई फिल्म ‘लक’ से लीडरोल निभाने का मौका मिला।

इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर कोई खास कमाल नहीं किया और श्रुति की पहचान भी धुंधली सी हो गई लेकिन साल‌ 2011 में रिलीज हुई उनकी तेलुगू फिल्म की सफलता ने उन्हें फिर से खबरों में लाली। मधुर भंडारकर के निर्देशन में बनी “दिल तो बच्चा है जी” रिलीज हुई इस फिल्म ने भी कोई खास सफलता हासिल नहीं की, लेकिन वह क्षेत्रीय भाषाओं की फिल्मों में व्यस्त हो गईं। इस साल उनकी एक तमिल फिल्म भी रिलीज हुई उसके लिए श्रुति को बेस्ट एक्ट्रेस दक्षिण का फिल्म फेयर पुरस्कार मिला तो उनकी एक और तेलुगु फिल्म ओ माई फ्रेंड रिलीज हुई। 2012 में आई तमिल फिल्म ज्ञानी राम के बाद इसी साल पवन कल्याण के साथ श्रुति की हिट फिल्म “गब्बर सिंह” रिलीज हुई।

फिर बलापोने तो उन्हें बेहद व्यस्त कर दिया गिरीश कुमार के साथ प्रभु देवा के डायरेकशन में आई “रमया वसतावया” ने बॉलीवुड में अपने कदम मजबूत किए। सूर्य के साथ डी डे, तेलुगु फिल्म यूडो, दौड़ गोरम, आगाडो, पोजाई के बाद श्रुति ने अर्जुन कपूर की फिल्म तेवर में आइटम गीत किया। फिर अक्षय कुमार के साथ गब्बर के बाद अब 25 मार्च को जॉन अब्राहम के साथ श्रुति की “रॉकी हैंडसम” रिलीज हो रही है। वैसे श्रुति यारा, एस 3 और प्रीमियम जैसी फिल्में भी कर रही हैं, लेकिन इस फिल्म से उन्हें काफी उम्मीदें हैं। आइए मिलते हैं बॉलीवुड की इस खूबसूरत अभिनेत्री से।

Q: “रॉकी हैंडसम” के बारे में आप क्या कहेंगी?
A: यह एक आधुनिक फिल्म है जो युवाओं को बहुत पसंद आएगा। फिल्म कांसपट बहुत अच्छा है ऐसा लगता है कि फिल्म में मेरी और जॉन अब्राहम की जोड़ी को भी पसंद किया जाएगा। फिल्म के गीत, एक्शन सीन और लोकेशनस देखने से संबंध रखते हैं। फिल्म में काफी मेहनत की गई है।

यह एक एक्शन थ्रिलर फिल्म है। जिसे निशिकांत कामत ने बड़े ज़बरदस्त तरीके से बताया है। फिल्म को खुद जॉन अब्राहम और सुनील खेतर पाल ने प्रोड्यूस किया है। फिल्म की कहानी एक ऐसे युवा के आसपास घूमती है जो ड्रग माफिया के खिलाफ लड़ाई लड़ता है। जिनका शिकार एक 8 साला लड़की हो जाती है फिल्म में, मैं जान की पत्नी का रोल निभाया है। सनी बावर और अंदर बावर संगीत लोकप्रिय हो रही है। शंकर रमन की सिनेमा ऑटोग्राफ देखने वालों को प्रभावित करेगी। बहरहाल यह एक रोमांचक फिल्म है।

Q: कमल हासन जैसे ग्रेट एक्टर की बेटी होने का फिल्म इंडस्ट्री में आपको कितना फायदा हुआ?
A: मैं काम प्राप्त करने के लिए कभी अपने पिताजी का नाम इस्तेमाल नहीं किया और न ही सिफारिश। मैं नहीं चाहती कि फिल्मकार मेरी एक्टिंग से ज्यादा मेरे परिवार बैकग्राउंड से प्रभावित हो। मुझे किसी के पास जाकर काम मांगना नहीं आता। अगर मैं ऐसा करती तो आज सबसे अधिक फिल्में मेरे पास ही होती। मुझे यकीन है कि मुझे कोई इनकार नहीं कर सकता था। मैं अपने दम पर फिल्में हासिल करना चाहती हूँ।

Q: आप एक्ट्रेस न होती तो क्या होती?
A: मैं एक अच्छी गायिका या संगीतकार होती। मैं फिल्मी दुनिया के हर क्षेत्र से परिचित हूँ, किसी भी क्षेत्र में नाम कमा सकती थी, लेकिन मुझे एक्ट्रेस बनना था बन गई।

आपने अब तक ग्लैमरस रोल किए हैं। नॉन ग्लैमरस रोल में लोगों को आप कितना स्वीकार कर पाएंगे?
सी: वे रोल मेरे चरित्र पर निर्भर करेगा लोग भूमिका के आधार पर मुझे नॉन ग्लैमरस रोल में भी पसंद करेंगे। ऐसे रोल करना चाहती हूं और इस तरह के और कई अनुभव करना चाहता हूँ।

Q: फिल्मों के चयन के लिए आप क्या पैमाना है?
A: मेरे लिए बैनर, डायरेक्टर, रोल ही मायने रखता है। मेरे लिए पैसे के महत्व नहीं है। पैसा मेने बहुत देखा है। मैं चाहती हूं कि लोग मुझे मेरी अभिनय से पहचाने।
Q: कॉमेडी करना मुश्किल है या आसान?
A: लोगों को हँसाने और रुलाना दोनों ही काम मुश्किल है, लेकिन मैं अपने समय सीमा से सीखा है। मुझे लगता है वह एक महान काम‌ है।

Q: कहते हैं आजकल आप चयन फिल्में ही कर रही हैं। कोई खास वजह?
A: क्योंकि अब मैं फिल्मों के चयन में कुछ अधिक सावधान हो गई हूँ। अब तक हल्की फुल्की कमर्शियल फ़िल्में हैं वैसी ही फिल्में करना चाहती हूं। जो वास्तव में अच्छा हो। उनका बजट मेरे लिए मायने नहीं रखता। मेरा मानना ​​है कि फिल्म बड़ी हो या छोटी दर्शकों का पूरा मनोरंजन होना चाहिए। यही कारण है कि मैं फिल्में अपने बजट के हिसाब से नहीं बल्कि उसकी अच्छी स्क्रिप्ट देखकर ही कर रही हूँ।

Q: आप भविष्य में किस तरह की फिल्में करना चाहती हैं?
A: मैं गंभीर फिल्मों से लेकर ग्लैमरस फिल्मों तक में काम किया है। अभी मैं कॉमेडी भी कर रही हूं, लेकिन अब पीरियड फिल्मों में भी काम करना चाहती हूं।

Q:आपने इंडस्ट्री में सात साल पूरे किए हैं। अब तक के फिल्मी सफर कितना संतुष्ट हैं?
A: पूर्ण संतुष्ट हूँ मेरा अब तक का सफर शानदार रहा है। निराशा और खुशी प्रत्येक उद्योग और हर इंसान के जीवन का हिस्सा है, लेकिन अब तक के सफर में मुझे बॉलीवुड ही नहीं दूसरी क्षेत्रीय फिल्म उद्योग का बहुत सहयोग मिला। सबने मेरी दिल से सराहना की है। दरअसल मेरा मानना ​​है कि सीखने की प्रक्रिया जीवन भर चलता रहता है और यह भी इतना बड़ा सच है कि अभिनेता के रूप में हम आजीवन कभी संतुष्ट नहीं हो सकते। मुझे लगता है कि एक एक्ट्रेस के रूप में मेरी पहचान अब जाकर बननी शुरू हो गई है और मुझे इस क्षेत्र में अभी बहुत कुछ करना बाकी है।

Q: एक औरत होने के नाते आपको किस बात की खुशी होती है?
A: सबसे बड़ी इस बात की खुशी है कि मैं आत्मनिर्भर हूँ हर काम को अपने तरीके से कर सकती हूँ। मेरा मानना ​​है कि आप अपने मन चाही चीज नहीं पा सकते हैं आपको इसे पाना सीखना चाहिए। सफलता में रूकावटें तो आएँगी, लेकिन यह भी तो सच है कि बिना संघर्ष के सफलता कहाँ मिलती है।

TOPPOPULARRECENT