Monday , November 20 2017
Home / Khaas Khabar / बिलकिस बानो मामले में दोषियों को मौत की सजा देने से कोर्ट ने किया इंकार

बिलकिस बानो मामले में दोषियों को मौत की सजा देने से कोर्ट ने किया इंकार

बिलकिस बानो रेप मामले में कोर्ट का दोषियों के सजा को बरकरार रखा है। सीबीआई के इस मांग को कोर्ट ने खारिज कर दिया जिसमें मांग किया गया था कि हत्या के सभी 11 दोषियों को मौत की सजा दी जाए लेकिन कोर्ट ने उम्रकैद की सजा बरकरार रखा।

इसके अलावा कोर्ट ने डॉक्टरों और पुलिसवालों समेत सात लोगों को बरी करने से भी इंकार कर दिया। इन सभी पर केस से जुड़े सबूतों प्रभावित करने आरोप है। बता दें कि सीबीआई ने अपील की थी कि तीन दोषियों जसवंत नाई, गोविंद नाई और एक अन्य की उम्र कैद की सजा को बदलकर मौत की सजा कर दी जाए। लेकिन कोर्ट ने सीबीआई के अपील को खारिज कर दिया लेकिन अन्य सातों आरोपियों को दोषमुक्त किए जाने के खिलाफ सीबीआई की याचिका को मंजूर कर लिया।

गौरतलब है कि साल 2002 में हुए गुजरात दंगों के दौरान बिलकिस बानों के परिवार पर हमलाकरउनके परिवार के आठ लोगों की हत्या कर दी गई थी। इसमें चार महिलाएं और चार बच्चे शामिल थे। जबकि छह सदस्य लापता हो गए थे। इसके अलावा हिंदू संगठन से जुड़े दंगाईयों के बिलकिस बानों का भी रेप किया गया था जबकि वह गर्भावस्था में थी।

इस मामले में 21 जनवरी 2008 को स्पेशल ट्रायल कोर्ट ने इन 11 लोगों को उम्रकैद की सजा सुनाई थी। कोर्ट ने जसवंत नाई, गोविंद नाई, सैलेश भट्ट, राधेश्याम भगवान दास शाह, बिपिन चंद्रा जोशी, केसरभाई वोहानिया, प्रदीप मोर्धिया, बाकाभाई वोहानिया, राजूभाई सोनी, मितेश भट्ट औप रमेश चंदन को दोषी करार दिया था। कोर्ट ने इन लोगों को मर्डर, गैंग रेप और गर्भवती महिला के साथ रेप करने का दोषी पाया था।

TOPPOPULARRECENT