Sunday , December 17 2017

बिहार एसेम्बली में यादव और मुसलमानों की तादाद बढ़ी

पटना : बिहार एसेम्बली का सूरत गुजिशता एसेम्बली से इस दफा अलग होगा। यादव और मुसलमानों की तादाद इस बार गुजिशता एसेम्बली के मुक़ाबले ज्यादा है। अभी एसेम्बली में हर चार एमएलए में से एक एमएलए यादव होंगे। इसी तरह मुसलमान एमएलए की तादाद भी इस दफा 19 से बढ़कर 24 हो गई है। इसे राजद सरबराह लालू प्रसाद के एमवाई फुर्मूले का रिजल्ट कहा जा रहा है। सबसे ज्यादा यादव और मुसलमान एमएलए राजद में हैं।

243 रुकनी बिहार एसेम्बली में यादव एमएलए की तादाद 61 और 24 मुसलमान हैं। राजद में यादवों की तादाद 42, जदयू के 11, कांग्रेस के 2 और भाजपा के 6 एमएलए हैं। कांग्रेस ने तीन यादवों को टिकट दिया था, बीजेपी ने 23 यादवों को टिकट दिया था। मुखतलिफ़ पार्टियों के 38 एमएलए एससी एसटी के हैं। इनमें राजद में 13, जदयू में 10, कांग्रेस में 5, एनडीए में 9 और (सीपीआई-एमएल लिबरेशन) में 1 हैं।

इस बार एसेम्बली में 24 मुसलमान चेहरे भी एसेम्बली में दिखाए देंगे। इनमें राजद में 12, जदयू में 5, कांग्रेस में 6 और (सीपीआई-एमएल लिबरेशन) में1 हैं। दिलचस्‍प बात यह है कि एनडीए की तरफ से इस दफा 16 मुसलमानों को अपना उम्मीदवार बनाया गया था, इसमें महज़ एक उम्मीदवार किशनगंज से इंतिख़ाब जीते हैं।

एसेम्बली में 19 राजपूत, 19 कोयरी, 17 भूमिहार, 16 कुर्मी, 16 वैश्‍य और 3 कायस्‍थ एमएलए भी नजर आएंगे। राजपूत एमएलए की बात करें तो आरजेडी में 2, जेडीयू में 6, कांग्रेस में 3, बीजेपी ने 8 उम्मीदवार जीते हैं। एलजेपी, आरएलएसपी और हिन्‍दुस्‍तानी आवाम मोर्चा का कोई भी राजपूत उम्मीदवार इंतिखाब नहीं जीत सका है।

जेडीयू के सबसे ज्यादा 11 कोइरी उम्मीदवार जीतकर एसेम्बली पहुंचे हैं जबकि आरजेडी के 4, बीजेपी के 3 और आरएलएसपी के 1 उम्मीदवार को जीत मिली। कांग्रेस ने कुल 41 उम्मीदवार उतारे थे और इनमें से 27 को जीत मिली। इनमें 6 मुस्लिम, 4 एसटी एससी के, 4 ब्राह्मण, 4 भूमिहार, 3 राजपूत, 2 यादव, 1 कुर्मी, 1 कायस्थ, 1 एससी जनजाति से हैं।

TOPPOPULARRECENT