Wednesday , November 22 2017
Home / Politics / अखिलेश-राहुल और प्रियंका-डिंपल की जोड़ी उतरेगी मैदान में मचेगा तहलका!

अखिलेश-राहुल और प्रियंका-डिंपल की जोड़ी उतरेगी मैदान में मचेगा तहलका!

उत्तर प्रदेश : उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में शुरुआती ताकत झोंकने के बाद असली राजनीति अब शुरु हो रही है. दीवाली के बाद यूपी में बड़े सियासी धमाकों की तैयारी है. दरअसल, कांग्रेस को लग रहा है कि, यूपी में शीला दीक्षित को सीएम का चेहरा बनाने का दांव कुछ ठीक नहीं बैठ रहा. बीएसपी, कांग्रेस से सम्मानजनक सीटों के साथ तालमेल करने को तैयार हो नहीं रही, इसलिए कांग्रेस के नेताओं का बड़ा तबका आलाकमान से अब जेडीयू, आरएलडी समेत छोटी पार्टियों के साथ समाजवादी पार्टी से गठजोड़ करके बीजेपी को यूपी में रोकने की वकालत कर रहा है.

सियासी शतरंज में गोटियां बिछाना भी शुरू किया जा चुका है. अखिलेश यूपी सरकार में मनमुताबिक फैसले ले रहे हैं और जेडीयू के शरद यादव सोनिया से मुलाकात कर रहे हैं. सम्मानजनक सीटें और नीतीश फॉर्मूले पर बात बन सकती है, नवंबर में इस पर आखिरी फैसला होगा.

नाम न छापने की शर्त पर कांग्रेस और सपा के नेता कहते हैं कि अखिलेश-राहुल और प्रियंका-डिंपल की जोड़ी जब मैदान में उतरेगी तो तहलका तो मचेगा ही. साथ ही पूर्वांचल में नितीश कुमार की छवि का फायदा होगा, कुर्मी वोटबैंक का फायदा भी होगा. वहीं अजीत सिंह और जयंत पश्चिमी यूपी में फायदा देंगे. कुल मिलाकर गठजोड़ बीजेपी के सामने चुनौती बनकर उभरेगा और बीजेपी विरोधी वोट को एक जगह मुहैया करायेगा, साथ ही मुस्लिम वोट भी एकजुट रहेगा.

दरअसल, राहुल गांधी खुद मुलायम सिंह यादव और अजीत सिंह के साथ उसी तर्ज पर नहीं दिखना चाहते, जिस तरह बिहार में लालू यादव से उनको परहेज था. ऐसे में राहुल को फार्मूला सुझाया गया है कि बिहार में नितीश की तरह यूपी में सीएम चेहरा तो अखिलेश होंगे, बाकी तो समर्थन में होंगे, उससे आपको क्या ऐतराज. आप बिहार की तर्ज पर अखिलेश के चेहरे पर बीजेपी विरोध की धुरी बनिए और 2019 में बीजेपी विरोध का राष्ट्रीय चेहरा बनिए. उधर, अखिलेश ने भी अपनी हालिया कार्यशैली से संदेश देने की कोशिश की है कि अब वो अपने हिसाब से सरकार चलाएंगे किसी के दबाव में नहीं. शिवपाल और बाकी मंत्रियों को वापस ना लेकर अखिलेश ने कड़ा सन्देश तो दे ही दिया है.

TOPPOPULARRECENT