Monday , November 20 2017
Home / Bihar/Jharkhand / बिहार के साइंस और आर्ट्स टॉपर का रिजल्ट कैंसल

बिहार के साइंस और आर्ट्स टॉपर का रिजल्ट कैंसल

पटना : बिहार में 12th साइंस और आर्ट्स में टॉपर रहे स्टूडेंट्स का रिजल्ट कैंसल कर दिया गया है। इसके साथ ही उन कॉलेजों की मान्यता भी रद्द कर दी गई है जहां से इन्होंने एक्जाम दिया था। कम एलिजिबल स्टूडेंट्स के टॉप करने के विवाद के बाद बिहार बोर्ड ने टॉप 5 में आए स्टुडेंट का इंटरव्यू लेने का फैसला किया था। हालांकि, आर्ट्स टॉपर रूबी राय टेस्ट देने नहीं पहुंचीं। उनके वालीद एक लेटर लेकर पहुंचे थे। इसमें रूबी के डिप्रेशन में होने की बात कही गई थी। बता दें कि रूबी ने ही अपने सब्जेक्ट पॉलिटिकल साइंस का नाम प्रोडिकल साइंस बताया था। टेस्ट में स्टूडेंट्स से 5 सवाल के जवाब पूछे गए। कहा गया है कि अगर स्टूडेंट तीन सवालों का जवाब देने में कामयाब रहे तो उनका रिजल्ट कैंसल हो जाएगा। 

इस बीच जुमा को टापर्स का टेस्ट लेने वाली जांच कमेटी पर सवाल उठ गए हैं।  बता दें कि एक्सपर्ट टीचर्स की दो टीम बनाई गई है। एक टीम साइंस टॉपरों के टेस्ट के लिए और दूसरी टीम आर्ट्स टॉपरों के टेस्ट के लिए।  जांच टीम ने बिहार बोर्ड ने एक्सपर्ट टीचर्स को रखे जाने का दावा किया है। पटना विश्वविद्यालय व मगध विश्वविद्यालय के टीचर इसमें हैं।  इसमें शामिल पटना कॉलेज के एक टीतर व एक कॉलेज के प्रोफेसर पर कई इल्जाम पहले से ही लगे हुए हैं। बोर्ड की कमेटी में रखे गए एक प्रो. को तो तीन सालों तक प्राचार्य पद से कागजात न मिलने की वजह से हटाया गया था। वहीं, मगध विवि के पटना स्थित कॉलेज के हिंदी टीचर पर कॉलेज में वित्तीय अनियमितता के इल्जाम लगे थे। इस वजह से कॉलेज से उन्हें हटा दिया गया था। 

इस संबंध में बोर्ड के प्रेसिडेंट डा. लालकेश्वर प्रसाद सिंह का कहना है कि एक्सपर्ट कमेटी के गठन का हक बोर्ड एडमिनिस्ट्रेशन को है। ऐसे हालात में सवाल नहीं उठाए जा सकते।  टॉपर्स बने स्टूडेंट्स का विवाद एक स्टिंग ऑपरेशन के चलते शुरू हुआ था।  स्टिंग में वैशाली जिले के बीएन कॉलेज के साइंस टॉपर सौरभ श्रेष्ठ और आर्ट्स टॉपर रूबी राय से बातचीत की गई थी। रूबी और सौरभ से सब्जेक्ट से जुड़े सवाल पूछे गए थे, लेकिन वे इसका सही जवाब नहीं दे पाए। रूबी को तो यह भी पता नहीं था कि कितने नंबर का एग्जाम हुआ है। बोर्ड अध्यक्ष प्रो. लालकेश्वर प्रसाद सिंह ने कहा है कि अगर कोई स्टूडेंट टेस्ट देने नहीं आता है तो उसका रिजल्ट कैंसल कर दिया जाएगा।

टॉपर्स की लिस्ट में चौथे नंबर पर आईं तैयबा प्रवीण ने कहा, “मैंने पढ़ाई के बाद एग्जाम में मार्क्स लाए हैं।”  “मुझे किसी भी इम्तिहान से कोई डर नहीं है।” तैयबा के साथ पहुंची उनकी मां ने कहा कि मेरी बेटी जाहिल नहीं है।  बिहार बोर्ड के एक्सपर्ट्स की सात सदस्यीय टीम सभी टॉपर्स का इंटरव्यू लेगी।   पांच सवाल पूछे जाएंगे, जिनमें से तीन का जवाब देना होगा। यानी इंटरव्यू में 100 में 60% अंक लाना होगा।  अगर स्टूडेंट्स तीन सवाल के जवाब नहीं दे पाते हैं तो बोर्ड उन पर कार्रवाई करेगा।   मेरिट लिस्ट से उनका नाम तो हटाया ही जाएगा, साथ ही रिजल्ट भी कैंसल किया जा सकता है।
राइटिंग का कॉपियों से कराया जाएगा मिलान  जांच इस एंगल से भी की जाएगी कि स्टूडेंट ने कॉपी लिखी है या किसी और से लिखवाई गई है।  इंटरव्यू के वक्त स्टूडेंट्स से कुछ लिखवाया जाएगा। उसके बाद बोर्ड की कॉपियों से मिलान भी कराया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT