Tuesday , December 12 2017

बिहार में सितंबर -अक्टूबर में होगा एसेम्बली इंतिख़ाब

बिहार की हुकूमत के लिए खम ठोक रहे दो अहम इत्तिहाद एनडीए और जनता परिवार के भीतर सीटों के बंटवारे को लेकर भले ही खींचतान चल रही हो, लेकिन एलेक्शन कमीशन ने इंतिखाबी समर के लिए वक़्त तय कर दी है। रियासत में एसेम्बली के इंतिख़ाब सितंबर-अक्

बिहार की हुकूमत के लिए खम ठोक रहे दो अहम इत्तिहाद एनडीए और जनता परिवार के भीतर सीटों के बंटवारे को लेकर भले ही खींचतान चल रही हो, लेकिन एलेक्शन कमीशन ने इंतिखाबी समर के लिए वक़्त तय कर दी है। रियासत में एसेम्बली के इंतिख़ाब सितंबर-अक्टूबर में होंगे। चीफ़ एलेक्शन कमिश्नर नसीम जैदी ने इतवार को यह ऐलान की। हालांकि उन्होंने तारीखों का एेलान नहीं किया। यह भी खुलासा नहीं किया कि इंतिखाबा कितने जमरे में होंगे। मौजूदा एसेम्बली का मुद्दत 29 नवंबर 2015 को खत्म होगा।

कमीशन 31 जुलाई तक वोटर लिस्ट तैयार कर लेगा। जैदी ने कहा, उम्मीद है कि महज़ तादाद में फोर्स दस्तयाब होंगे, क्योंकि उस वक़्त बस बिहार में ही इंतिख़ाब है। सेंटर फोर्स का असरी इस्तेमाल भी होगा।
जैदी ने एक खुसुसि इंटरव्यू र में बिहार इंतिख़ाब को “मदर ऑफ ऑल इलेक्शंस ‘बताया। जैदी ने कहा, “बिहार में पैसे का इस्तेमाल एक बड़ी मसला है। इस बार हम सिस्टमेटिक कोशिश कर रहे हैं। हमने खर्च की निगरानी शुरू कर दी है। इसके लिए नए सिरे से पॉलिसी बनाएंगे और सही वक़्त पर लागू करेंगे। हम उन लोगों की शिनाख्त करेंगे, जो घूस, शराब, गिफ्ट बांटने में चैनल के तौर पर काम करते हैं। पेड न्यूज को एक रोग करार देते हुए जैदी ने इसे इस इंतिख़ाब में बड़ी चैलेंज बताई। कुछ कानूनी तरमीम कानून वज़ारत से अभी आने बाकी हैं। लेकिन, अपनी ताकतों के तहत हमने खर्ज निगरानी सिस्टम शुरू की है।

TOPPOPULARRECENT