बीजेपी नेता का विवादित बयान- ‘राहुल गांधी को बम बांधकर दूसरे देश भेज देना चाहिए’

बीजेपी नेता का विवादित बयान- ‘राहुल गांधी को बम बांधकर दूसरे देश भेज देना चाहिए’

लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों की तैयारी जोरों पर है. चुनाव का समय आते ही आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो जाता है. अभी भोपाल से बीजेपी उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर द्वारा शहीद हेमंत करकरे पर दिया गया विवादित बयान का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि महाराष्ट्र सरकार में मंत्री और बीजेपी नेता पंकजा मुंडे ने राहुल गांधी को लेकर विवादित बयान दियाहै.पंकजा मुंडे ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि राहुल गांधी के शरीर पर बम बांध देना चाहिए और उन्हें किसी दूसरे देश भेज देना चाहिए. वे (राहुल गांधी) तभी समझेंगे. पंकजा मुंडे का यह बयान सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे पर था.

पंकजा मुंडे  ने कहा, ‘हमारे सैनिकों पर कायराना हमले के बाद हमने सर्जिकल स्‍ट्राइक किया. कुछ लोग पूछ रहे हैं कि उसके सबूत क्‍या हैं. मैं कहती हूं हमें राहुल गांधी के साथ एक बम बांधकर उन्‍हें दूसरे देश भेज देना चाहिए था. तब उन्‍हें समझ आता.’ पंकजा मुंडे का यह बयान एक दिन पहले यानी 21 अप्रैल का है. बता दें कि पंकजा मुंडे वर्तमान में महाराष्ट्र की परली विधानसभा सीट से MLA हैं और राज्य सरकार में मंत्री हैं. पंकजा मुंडे बीजेपी के दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी हैं.

बता दें कि इससे पहले भोपाल लोकसभा सीट से बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने  26/11 के मुंबई हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे के ख़िलाफ़ विवादित बयान दिया था. प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि हेमंत करकरे ने उन्हें ग़लत तरीक़े से फंसाया है. प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि एक अधिकारी ने हेमंत करकरे से उन्हें छोड़ने का कहा था, लेकिन करकरे ने कहा था कि वो कुछ भी करेंगे, सबूत लाएंगे लेकिन साध्वी को नहीं छोड़ेंगे.

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि हेमंत करकरे का ये क़दम देशद्रोह था, धर्मविरुद्ध था. साध्वी बोलीं, ”ये उसकी कुटिलता थी ये देशद्रोह था धर्मविरुद्ध था, वो मुझसे पूछता था कि क्या मुझे सच के लिए भगवान के पास जाना होगा, तो मैंने कहा था कि आपको जरूरत है तो जाइए”. सभा में साध्वी ने कहा, ”मैंने उसे कहा था तेरा सर्वनाश होगा, उसने मुझे गालियां दी थीं. जिस दिन मैं गई तो उसके यहां सूतक लगा था और जब उसे आतंकियों ने मारा तो सूतक खत्म हुआ.”

सपा नेता आजम खान ने रामपुर में एक जनसभा के दौरान अप्रत्यक्ष रूप से जया प्रदा के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. आजम खान की टिप्पणी के बाद उनपर चुनाव आयोग की तरफ से 72 घंटे का बैन भी लगाया गया था.

Top Stories