बीजेपी से इस्तीफा देने के बाद सावित्री बाई बोली- ‘दलितों को राम मंदिर नहीं बल्कि संविधान चाहिए’

बीजेपी से इस्तीफा देने के बाद सावित्री बाई बोली- ‘दलितों को राम मंदिर नहीं बल्कि संविधान चाहिए’

उत्‍तर प्रदेश के बहराइच से बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले ने गुरुवार को बीजेपी से इस्‍तीफा दे दिया है। फुले ने इस्‍तीफा देने के बाद कहा कि दलितों को श्रीराम मंदिर नहीं, संविधान चाहिए।

हनुमान जी दलित थे तभी भगवान श्रीराम ने उन्‍हें बंदर बनाया। उन्‍होंने कहा कि दलित सांसद होने के कारण मेरी बातों को और मुझे अनसुना किया गया है। आज में बीजेपी से इस्तीफा दे रही हूं। उन्‍होंने बीजेपी पर ही निशाना साधते हुए कहा कि बीजेपी समाज में बंटवारे की कोशिश कर रही है।

सावित्री बाई फुले ने कहा कि संविधान को समाप्त करने की साजिश की जा रही है। दलित और पिछड़ा का आरक्षण बड़ी बारीकी से समाप्त किया जा रहा है।

जब तक मैं जिंदा रहूंगी घर वापस नहीं जाऊंगी। संविधान को पूरी तरह से लागू करूंगी। 23 दिसम्बर को लखनऊ के रमाबाई मैदान में महारैली करने जा रही हूं। उसमें मैं बड़ा धमाका करूंगी।

साभार- ‘ज़ी न्यूज़’

Top Stories