बीवीयों को ज़िद-ओ-कूब करने शौहरों को मश्वरा देने वाली मुतनाज़ा किताब

बीवीयों को ज़िद-ओ-कूब करने शौहरों को मश्वरा देने वाली मुतनाज़ा किताब
एक इस्लामी मैरेज गाईड नामी किताब से ज़बरदस्त तनाज़ा पैदा हुआ है । इस किताब में शौहरों को मश्वरा दिया गया है कि वो अपनी बीवीयों को हाथ या छड़ी से शदीद ज़द्द-ओ-कूब करें या उनके कान खींचें । 160 सफ़ा वाली इस किताब का उनवान मुस्लिम जोड़े के लिए

एक इस्लामी मैरेज गाईड नामी किताब से ज़बरदस्त तनाज़ा पैदा हुआ है । इस किताब में शौहरों को मश्वरा दिया गया है कि वो अपनी बीवीयों को हाथ या छड़ी से शदीद ज़द्द-ओ-कूब करें या उनके कान खींचें । 160 सफ़ा वाली इस किताब का उनवान मुस्लिम जोड़े के लिए एक तोहफ़ा है जिसको नौ शादीशुदा अफ़राद या जोड़ों में गुज़श्ता चंद साल से तक़सीम किया जा रहा है ।

बताया जाता है कि इस किताब को मौलवी अशर्फ़ अली थानवी ने लिखा है । इस किताब में अज़दवाजी ज़िंदगी के बारे में मुख़्तलिफ़ हिदायतें दी गयी हैं । तलाक़ और खुला से मुताल्लिक़ अहम नकात समझाए गए हैं । डेली मिरर ने रिपोर्ट दी है कि किताब के अंदर बताया गया है कि अपनी बीवी को सख़्ती से क़ाबू में रखें और उसे नाफ़रमानी पर सज़ा भी दें ।

शौहर अपनी बीवी को ख़ुलूस और मुहब्बत से पेश आए । अगर इसने कोई शरारत की हो तो इसकी तनबहा करें । किताब में ये भी बताया गया है कि बीवी का फ़रीज़ा है कि शौहर की ख़ाहिशात पूरा करें । दूसरों के लिए सजने के बजाय शौहर के लिए ख़ुद के हुस्न को संवारना चाहिये ।

कनाडा में ये किताब फ़रोख्त होने के बाद एतेदाल पसंद मुस्लमानों ने इसके ख़िलाफ़ एहतिजाज किया है । इन का कहना है कि इस से घरेलू तशद्दुद की हौसला अफ़्ज़ाई होती है ।

Top Stories