Friday , December 15 2017

बी जे पी जैसी फ़िर्कापरस्त जमात को अचानक सरदार पटेल से मुहब्बत कैसी?

जनाब फ़ारूक़ हुसैन कांग्रेसी रुक्न क़ानूनसाज़ कौंसिल ने सरदार पटेल से बी जे पी की यकतरफ़ा मुहब्बत पर ताज्जुब का इज़हार किया और कहा कि नाथूराम गोड्से के चेलों को ये ज़ेब नहीं देता कि वो मुफ़ाद परस्ती के लिए सरदार पटेल को अपने क़ाइद के तौ

जनाब फ़ारूक़ हुसैन कांग्रेसी रुक्न क़ानूनसाज़ कौंसिल ने सरदार पटेल से बी जे पी की यकतरफ़ा मुहब्बत पर ताज्जुब का इज़हार किया और कहा कि नाथूराम गोड्से के चेलों को ये ज़ेब नहीं देता कि वो मुफ़ाद परस्ती के लिए सरदार पटेल को अपने क़ाइद के तौर पर पेश करे।

यहां जारी कर्दा एक ब्यान में जनाब फ़ारूक़ हुसैन ने कहा कि बी जे पी को पहले गांधी जी के क़त्ल की सफ़ाई देनी चाहीए जो अदम तशद्दुद पर ना सिर्फ़ यक़ीन रखते थे बल्कि उस की तलक़ीन भी किया करते थे जिस से ना सिर्फ़ हिंदुस्तान बल्कि पूरी दुनिया वाक़िफ़ है और ख़ुद बी जे पी के चंद क़ाइदीन भी उस की गवाही देते हैं।

उन्हों ने कहा कि कांग्रेस अपनी एक तारीख रखती है और मुल्क के इस्तिहकाम और अवाम के दरमियान भाई चारा और मुसावात को फ़रोग़ देने में इस का कोई सानी नहीं।

जब कि बी जे पी और उस के क़ाइदीन का नज़रिया इस के बिलकुल बरअक्स है। उन्हों ने कहा कि बी जे पी और उस के क़ाइदीन हमेशा ही से मुल्क में इंतिशार फैलाने का काम किया उस में बी जे पी क़ाइदीन पेश पेश रहे हैं।

जनाब फ़ारूक़ हुसैन ने बताया कि आदिलाबाद सुल्तान बीजापूर इब्राहीम आदिल शाह के नाम से तक़सीम हिंद के वक़्त ही मौसूम कर दिया गया। इसी तरह महबूब नगर नाम अपनी एक तारीख रखता है।

TOPPOPULARRECENT