Thursday , December 14 2017

बी जे पी हुकूमत की क़िस्मत का जनवरी को फ़ैसला

चीफ़ मिनिस्टर की बेदखली के लिए मुहिम में शिद्दत, बी एस यदि यूरप्पा का बयान

चीफ़ मिनिस्टर की बेदखली के लिए मुहिम में शिद्दत, बी एस यदि यूरप्पा का बयान
बैंगलौर।26दिसम्बर: साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर कर्नाटक बी एस यदि यूरप्पा ने आज रियासत की बी जे पी हुकूमत के ख़िलाफ़ अपनी तन्क़ीदों में शिद्दत पैदा करदी और कहा कि उन की पार्टी कर्नाटक जनता पखशा ( के जे पी ) 4जनवरी को फ़ैसला करेगी कि आया चीफ़ मिनिस्टर जगदीश शटर को इक़तिदार पर रखा जाये या बेदखल कर दिया जाये।

यहां फ़्रीडम पार्क पर मुनाक़िदा जल्सा-ए-आम से ख़िताब करते हुए उन्होंने कहा कि बी जे पी हुकूमत अपनी अक्सरीयत से महरूम होचुकी है और वो इक़तिदार पर रहने का अख़लाक़ी हक़ नहीं रखती। उन्होंने विधान सुधा चलो एहतेजाजी मार्च से पहले सभा में कहा कि उनकी पार्टी हुकूमत के ख़िलाफ़ अपनी कोशिशों में शिद्दत लाएगी।

यदि यूरप्पा ने तक़रीबन एक माह पहले बी जे पी से स्तीफ़ा दिया था, इन का कहना है कि हुकूमत को अक्सरीयत हासिल नहीं है हम गवर्नर से मांग‌ करेंगे कि वो चीफ़ मिनिस्टर जगदीश शटर को बेदखल करदें। 4जनवरी को ये फ़ैसला किया जाएगा कि आया हुकूमत को बरक़रार रखा जाये या उसे गिरा दिया जाये।

जलसे के बाद विधान सुधा चलो मार्च निकाला गया लेकिन यदि यूरप्पा और के जे पी के क़ाइदीन और वर्कर्स को आगे बढ़ने की इजाज़त नहीं दी गई, उन्हें कुछ दूर ही रोक लिया गया। ज़ाइद अज़ 14बी जे पी अरकान इस रयाली में यदि यूरप्पा के साथ‌ थे जिन्होंने इस माह के अवाइल में ही अज़ ख़ुद यदि यूरप्पा का साथ दे कर नई पार्टी क़ायम करने की तरग़ीब दी थी।

TOPPOPULARRECENT