Monday , December 18 2017

बुखारी व कल्बे जव्वाद के बीच झूल रहा मुस्लिम वोटबैंक

आइंदा लोकसभा इंतेखाब में जहाँ सभी सियासी पार्टी मुस्लिम वोटबैंक को इक्तेदार की तब्दीली का एक बड़ा जरिया मानते हुए उनपर जाल फेंकने में लगे हुए हैं वहीँ खुद मुस्लिम फिर्का दो हिस्से में तक्सीम होता दिखाई दे रहा है| बीते दिनों जहाँ द

आइंदा लोकसभा इंतेखाब में जहाँ सभी सियासी पार्टी मुस्लिम वोटबैंक को इक्तेदार की तब्दीली का एक बड़ा जरिया मानते हुए उनपर जाल फेंकने में लगे हुए हैं वहीँ खुद मुस्लिम फिर्का दो हिस्से में तक्सीम होता दिखाई दे रहा है| बीते दिनों जहाँ दिल्ली में जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने मुल्क के मुसलामानों से कांग्रेस को वोट देने के लिए अपील की थी वहीँ अब मशहूर शिया उलेमा कल्बे जव्वाद ने शिया मुस्लिमों से लोकसभा इंतेखाबात में कांग्रेस को वोट न देने की अपील की है|

कल्बे जव्वाद ने शिया मुस्लिमों से अपील की है कि वे लोकसभा इंतेखाबात में कांग्रेस को वोट न दें। कल्बे जव्वाद शिया मुस्लिमों के उलेमा हैं। जव्वाद ने पीर के रोज़ को अपनी अपील में कहा है कि कांग्रेस के इक्तेदार में मुल्क में बड़े दंगे हुए और इस पार्टी की पालिसीयों से मुस्लिमों के हालात खराब हुए हैं।

मालूम हो कि अभी बीते दिनों कांग्रेस की सदर सोनिया गांधी ने शाही इमाम बुखारी से मुलाक़ात की थी| ज़राए के मुताबिक इस मुलाकात के दौरान सोनिया ने सेक्युलर वोटों की तक्सीम को रोकने पर जोर दिया था। इस मुलाक़ात के बाद बुखारी ने लोकसभा इंतेखाबात में कांग्रेस की हिमायत का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि हालांकि मरकज़ में रूलिंग पार्टी से उन्हें अब भी बहुत सी शिकायतें हैं लेकिन मुल्क में फिर्कावाराना ताकतों को रोकने के लिए यह फैसला करना पड़ा है|

उन्होंने उस वक्त यह साफ किया था कि बा शर्त कांग्रेस को उनकी ताईद है|

अभी तक कयास लगाए जा रहे थे कि बुखारी के सोनिया की ताईद करने का ऐलान उत्तर प्रदेश और बिहार में कांग्रेस को काफी फायदा पहुंचाएगा| वहीँ कल्बे जव्वाद की इस अपील के बाद कहीं न कहीं कांग्रेस को एक बड़ा झटका पहुंचा हैं| अब इन दोनों की अपील का असर तो अब लोकसभा इंतेखाबात के नतीजे के बाद ही सामने आयगा|

TOPPOPULARRECENT