Tuesday , December 12 2017

बुर्का तो रहा एक तरफ़, जर्मनी में कभी “जींस” पर भी थी पाबंदी

बर्लिन: जर्मनी में पिछले कुछ समय से बुर्के पर प्रतिबंध के संबंध में चर्चा की जा रही है। लेकिन परिधान पर प्रतिबंध के संबंध में ऐसी बहसें कोई नई बात नहीं। एक दौर में पूर्वी जर्मनी में जींस पहनने पर भी प्रतिबंध लगाया गया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

इतिहास पर नजर डालें तो पता चलता है कि कई अवधियों में कुछ परिधान पर प्रतिबंध लगाया गया और उनमें से कुछ तो ऐसे हैं, जिनके बारे में जानकर आपको आश्चर्य होगा। लेखिका उलरश पलैंसडोरफ मजहबी रिवाज के संदर्भ में अपने उपन्यास, द न्यू सफरनगज़ ऑफ यंग डब्ल्यू ‘में लिखती हैं,’ ‘जींस केवल कपड़े का एक टुकड़ा नहीं बल्कि जीवन जीने का तरीका है।’ ‘
पचास के दशक के पहले साल से ही नीले रंग के मोटे सूती कपड़े से बनी पैंट स्वतंत्रता, पारदर्शिता और विद्रोह का प्रतीक बन गई थीं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि कम्युनिस्ट पूर्वी जर्मनी में भी कई युवाओं ने जींस को बतौर फैशन अपनाया था। वहाँ लेकिन सरकारी स्तर पर अमेरिकी जीन्स को पूंजीवादी शैतानी प्रणाली के उपकरण के रूप में देखा गया। कम्युनिस्ट पार्टी के नेताओं का कहना था कि जींस केवल वही लोग पहनते होंगे, जो आपराधिक और आवारा मानसिकता के मालिक होंगे। सत्तर के दशक की शुरुआत में पूर्वी जर्मनी के कुछ स्कूलों में जींस पर पाबंदी लगा दी गई थी।
यहां तक कि स्कूल के कुछ छात्रों को इस पैंट पहनकर आने के आरोप में स्कूल से बाहर कर दिया गया। और तो और पूर्वी जर्मनी में डांस डिस्को क्लब में भी जींस पर बेन लगा दिया गया था। हालांकि जैसे जैसे सरकार जींस पर प्रतिबंध लगाती गई, वैसे वैसे यह पहनावा पूर्वी जर्मनी में लोकप्रिय होता चला गया। आखिरकार पूर्वी जर्मनी नेतृत्व हार मानते हुए पश्चिम के इस पहनावे को सहन करना पड़ा। अंततः सन उन्नीस सौ चौहत्तर में पूर्वी जर्मनी अपना कपड़ा कारखानों में जींस उत्पादन शुरू कर दी। लेकिन यहाँ जीन्स को एक अलग नाम दिया गया। पूर्वी जर्मनी में उन्हें ‘नीटन होज़न’ कहा जाता था और उनकी बनावट भी मूल जीन्स से थोड़ा अलग था। हालांकि सन उन्नीस सौ नवासी में बर्लिन की दीवार गिरने के बाद यह सभी आरक्षण पीछे डाल दिए गए। सीमाएं खोलने के बाद पूर्वी जर्मनी से पश्चिमी जर्मनी जाने वाले सैंकड़ो लोग तस्वीरों में जींस पहने दिखाई दिए।

TOPPOPULARRECENT