Tuesday , November 21 2017
Home / Editorial / बुढ़ापा विरोधी और खूबसूरती का प्रतीक है , जानिए, ‘रोज़ा’ रखने के अद्भुत मेडिकल बेनिफिट्स!

बुढ़ापा विरोधी और खूबसूरती का प्रतीक है , जानिए, ‘रोज़ा’ रखने के अद्भुत मेडिकल बेनिफिट्स!

रियाद: निस्संदेह रोज़ा एक पवित्र इबादत है और उसका इनाम केवल भगवान ही दे सकता है लेकिन रोज़ा के नतीजे में मनुष्य को ऐसे अद्भुत चिकित्सा लाभ भी प्राप्त होते हैं जिनका आम लोग कल्पना भी नहीं कर सकते।

विशेषज्ञों का कहना है कि तेजी से मनुष्य के बाहरी सौंदर्य, त्वचा की ताजगी, बालों यहां तक कि नाखूनों के लिए भी उपयोगी साबित होता है।

अल अरबिया समाचार चैनल के कार्यक्रम ” सबाह अल अरबिया” में बात करते हुए खाल मामला, बुढ़ापा और कॉस्मेटिक सर्जरी विशेषज्ञ डॉ सअद अस्स्कीर  ने बताया कि एक सप्ताह में 16 घंटे का रोज़ा बुढ़ापे के प्रभाव को कम करने में मदद देता है। उन्होंने इस संबंध में वर्ष 1980 में किए गए एक शोध का भी हवाला दिया और बताया आज तक इस शोध को एक प्रमाण पत्र के रूप में माना जाता है।

energy

ज़हरीले सामग्री से छुटकारा:

रोज़ा के बिना मानव शरीर की शक्ति और ऊर्जा प्रणाली पाचन के कारण घट जाती है। मगर 12 घंटे के रोज़े के बाद शरीर की ऊर्जा प्रणाली पाचन के निर्देश पर काम नहीं करती। बारह घंटे के रोज़े के बाद मानव शरीर में मौजूद ज़हरीला पदार्थ और अनियमित पदार्थ नष्ट हो जाते हैं। इस तरह शरीर को अनियमित पदार्थ से मुक्ति मिलती है।

old_men_ii_by_bisiobisio

बुढ़ापा:

डॉक्टर सैक़र ने बताया कि यह आभास सही नहीं है कि रोज़ा मनुष्य को कमजोर कर देता है। रोज़ा रखने से इंसान बुढ़ापे को रोकने के सफल प्रयास कर रहा होता है। रोज़े की अवस्था में मानव शरीर में मौजूद ऐसे हार्मोन हरकत में आ जाते हैं जो बुढ़ापे का विरोध करते हैं। रोज़ा से मानव त्वचा मजबूत होती है और उसमें झुर्रियां कम होती हैं।

उन्होंने हदीस का भी हवाला दिया जिसमें पैगम्बर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया था कि “रोज़ा रखो स्वास्थ्य पाओ”। डॉक्टर सैकर का कहना था कि सप्ताह में 16 घंटे के एक रोज़े से मानव शरीर को अद्भुत चिकित्सा लाभ प्राप्त होते हैं।

उन्होंने कहा कि हर दिन रोज़े के चिकित्सा लाभ सामने आ रहे हैं। रोज़ा कैंसर, हृदय रोग और धमनियों के रोगों के आगे भी ढाल है।

sik

त्वचा की ताजगी:

गर्मी के मौसम में आने वाले माहे रमज़ान में मानव शरीर को रोज़े की हालत में पानी की ज्यादा जरूरत महसूस होती है। सख्त गर्मी में त्वचा झुलस जाती है। डॉक्टर सैकर सुझाव देते हैं कि इफ्तार के बाद और सेहरी के समय में पानी का अधिकतर इस्तेमाल किया जाए। इससे त्वचा को ताजा रखा जा सकता है। इसके अलावा ग्लिसरीन के उपयोग से भी त्वचा को ताजा किया जा सकता है।

body

रोज़ेदार के शरीर में कौन सी पदार्थ ज्यादा फैलती है:

अल अरबिया कार्यक्रम में बोलते हुए त्वचा मामलों के विशेषज्ञ डॉक्टर अल सैकर ने कहा कि मानव शरीर को कोलाजीन [बे रंग प्रोटीन जो ज्यादातर गलाई सेन, हाइड रोक्सी प्रोटीन और परोलियन पाई जाती है। शरीर के सभी हेरफेर ऊतक में खुसूसन त्वचा, करी हड्डी और जोड़ बंधन में होती है] और अलासटन के फैलाव की आवश्यकता होती है और रोज़ा इस में मदद करता है।

मानव त्वचा और नाखूनों पर भी रोज़ा का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। नाखून, सर के बालों का विकास और उनकी मजबूती में वृद्धि होती है। मानव और चेहरे के रंग पर सेट होने वाले प्रभाव नाखूनों पर भी प्रभावित होते हैं. रोज़े  की हालत में शरीर अपने हार्मोनज को फैलाता है जो त्वचा की सौंदर्य और नाखूनों चमक और बालों की मजबूती का सबब बनते हैं। यहां तक कि रोज़े से संक्रमण बैक्टीरिया को रोकने और बुढ़ापे का विरोध करता है।

caus

सावधानियां:

विशेषज्ञ माहे रमजान आने से पहले रोज़ेदारों को कुछ सावधानियां बरतने का भी सुझाव दिया है। उनका कहना है कि रोगी और गर्भवती महिलाओं को रमजान से पहले अपना मेडिकल जाँच करा लेना चाहिए ताकि यह पता चल सके कि उन्हें रोज़े की हालत में कौन कौन से काम करने हैं खाने में किस तरह की सावधानी की जरूरत है।

अन्य प्रस्ताव आम रोज़ेदारों के लिए है। रोज़े की वजह से अधिक भूख और प्यास मानव चिकित्सा से अत्यधिक खाने पीने पर मजबूर कर सकती है मगर सहरी और इफ्तार में खाने-पीने में संयम का प्रदर्शन करना चाहिए।

खाना खाने के तुरंत बाद सोने की आदत नहीं डलनी चाहिए बल्कि शरीर को भोजन पचाने का कुछ मौका जरूर देना चाहिए। संतुलित भोजन के साथ खाने में सब्जियों की मात्रा बढ़ा देनी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT