बेंगलुरु: शिया सुन्नी एकता की नई मिसाल

बेंगलुरु: शिया सुन्नी एकता की नई मिसाल
Click for full image

बेंगलुरु: सदाए इत्तिहाद के उप सचिव एजाज अली जौहर ने बेंगलुरु में सभी मसलक से वाबस्ता उलेमाओं की एक बैठक अस्करी मस्जिद में बुलाई थी, विभिन्न सुनी संगठनों के उलेमा न केवल शिया मजलिस में शरीक हुए बल्कि नमाज़ ज़ुहर भी एक साथ अदा की. इन दिनों राष्ट्रव्यापी मिल्ली गठबंधन की ऐसी लहर चली हुई है, जो इससे पहले आम तौर पर नहीं देखा गया.
कुछ लोग तो दिल से मोदी सरकार के शुक्रगुजार भी हैं कि वह समान नागरिक संहिता और तीन तलाक का मामला उठाकर भारत के सभी मुसलमानों को एक मंच पर एकत्र होने के लिए सोचने पर मजबूर कर दिया. इन दिनों जगह जगह मिल्ली गठबंधन को सभाओं और बैठकों का दौर जारी है.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रदेश 18 के अनुसार, बेंगलुरु में शिया सुन्नी एकता की एक सुंदर उदाहरण दीखने को मली. विभिन्न सुनी संगठनों के प्रतिनिधियों ने अस्करी मस्जिद पहुँच कर न केवल सभा में भाग लिया बल्कि नमाज़े ज़ोहर भी एक साथ अदा की. इस अवसर पर र्कनाटक उर्दू अकादमी के सदर अज़ीज़ुल्लाह बैग और पूर्व पुलिस ऑफिसर एनडी मुल्ला सहित विभिन्न सुनी संगठनों के प्रतिनिधियों ने शरकत की.

गौरतलब है कि सदाए इत्तिहाद के उप सचिव एजाज अली जौहर ने इस सभा का आयोजन किया था. एजाज अली जौहर ने कहा कि शिया सुन्नी के बीच कुछ मतभेद हो सकते हैं, लेकिन इन मतभेदों को बालाए ताक़ रखते हुए दोनों वर्गों को एक मंच पर आना ज़रूरी है.

Top Stories