Tuesday , December 12 2017

बेंगलूरू में पिछले दशक में यौन शोषण के मामलों में हुआ इज़ाफ़ा

बेंगलूरू। पुलिस के आंकड़ों के अनुसार पिछले दशक में यौन शोषण के मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है। शहर पुलिस आयुक्त द्वारा जारी आंकड़े बताते हैं कि इसी अवधि में सजा दर और न्यायिक विलंब 1 प्रतिशत से भी कम पर स्थिर है। वर्ष 2016 तक एक दशक में बेंगलुरु में छेड़छाड़ की घटनाओं में चार गुना से ज्यादा वृद्धि दर्ज की गई है।
वर्ष 2006 और 2016 के बीच दर्ज 4,241 शिकायतों के पुलिस आंकड़ों के विश्लेषण के मुताबिक सजा की दर 0.37 प्रतिशत (16 मामले) थी। धारा 354 के तहत शिकायतों की संख्या (एक महिला की विनम्रता को मारने के लिए हमले) 2006 में 150 से बढ़कर वर्ष 2016 में 776 हो गई।

 

 

 

 

विशेषज्ञों का कहना है कि यह घटनाओं की संख्या में वृद्धि के साथ-साथ महिलाओं की शिकायत दर्ज करने के लिए अधिक से अधिक इच्छा के कारण हो सकती है। यह डाटा प्रोजेक्ट एक टेम्पलेट के रूप में काम कर सकता है कि कैसे भारत के बढ़ते शहरों में पुलिस सार्वजनिक हित में उनके अपराध डेटा की भावना पैदा कर सकती है।

 

 

 

 

धारा 354 में यौन उत्पीड़न (354 ए), अपहृत (354 बी), घूरना (354 सी) और पीछा करना (354 डी) के इरादे के साथ आपराधिक बल का उपयोग शामिल है।

TOPPOPULARRECENT