Monday , December 18 2017

बेगैर कायदे-कानून के लॉज फायदा उठा रहे हैं गैर समाजी अनासिर

दारुल हुकूमत रांची में फिलहाल बड़ी तादाद में लॉज चल रहे हैं। इन लॉज में आसपास के देही इलाकों और दूसरे शहरों के तालिबे इल्म की बड़ी तादाद में आकर रह रहे हैं।

दारुल हुकूमत रांची में फिलहाल बड़ी तादाद में लॉज चल रहे हैं। इन लॉज में आसपास के देही इलाकों और दूसरे शहरों के तालिबे इल्म की बड़ी तादाद में आकर रह रहे हैं।

ज्यादातर लॉज बिना कायदे-कानून के चल रहे हैं, जिसका फायदा उठा कर गैर समाजी अनासिर और मुजरिम ज़ेहनी लोग भी ठहर रहे हैं। लॉज चलाने वालों के लिए जरूरी है कि वे अपने यहां ठहरनेवाले तालिबे इल्म के मुतल्लिक़ में जानकारी पुलिस को दे, पर वे ऐसा नहीं कर रहे हैं।

प्रसाद ब्वायज हॉस्टल, थड़पखना जाकर बात करने पर पता चला कि वे अपने हॉस्टल में रह रहे तालिबे इल्म की शिनाख्त कार्ड और फोटो रखते हैं, पर इसकी जानकारी पुलिस को नहीं देते हैं। हालांकि, मुंकीपल कॉर्पोरेशन में हॉस्टल का रजिस्ट्रेशन कराया गया है। वर्धमान कंपाउंड वाक़ेय संस्कार ब्वायज हॉस्टल के मैनेजर ने कहा कि हमलोग तालिबे इल्म से फोटो और आइडी प्रूफ लेने के बाद ही रखते हैं। वे अपनी तरफ से तालिबे इल्म के बारे में जानकारी थाने को नहीं देते हैं। कभी पुलिस आ गयी, तो वह अपनी ओर से इंक्वायरी करती है।

TOPPOPULARRECENT