Monday , December 11 2017

बेटे की मौत पर दिलबर्दाशता वालदैन की ख़ुदकुशी

नई दिल्ली: एक उल-मनाक वाक़िये में एक 7 साला लड़के के वालदैन जोकि डेंगू के ईलाज के लिए यहां दो नामवर ख़ानगी दवा ख़ानों में दाख़िले से इनकार के बाद फ़ौत हो गया। जुनूबी दिल्ली के इलाक़ा लाडो सराय में एक 4 मंज़िला इमारत से छलांग लगाकर ख़ुदकुशी करली।

डिप्टी कमिशनर पुलिस (साउथ) मिस्टर प्रेम नाथ ने बताया कि महलोकीन की बहैसीयत लक्ष्मी चंद्र और बप्पीता रावत शनाख़्त करली गई जोकि ओडिशा के मुतवत्तिन थे। इस जोड़े ने ख़ुदकुशी नोट में बताया कि किसी की भी ग़लती नहीं है, इंतेहाई इक़दाम का फ़ैसला उनका अपना है।

उनका वाहिद लड़का एवीनाश यहां दो ख़ानगी दवा ख़ानों में दाख़िले से इनकार के बाद 8 सितंबर को मर्ज़ डेंगू से फ़ौत हो गया था। एक सीनियर ओहदेदार ने बताया कि इस वाक़िये की इत्तेला मिलने पर दिल्ली के वज़ीर-ए-सेहत सतेन्द्र जैन ने क़सूरवार दो हॉस्पिटलों को वजह नुमाई नोटिस जारी करने का हुक्म दिया है।

इस जोड़े की नाशें पड़ोसियों को जुमा की शब नज़र आएं जिनके हाथ रस्सी से बंधे हुए थे। पुलिस ने एक केस दर्ज करके तहक़ीक़ात शुरू कर दी है।

TOPPOPULARRECENT