Friday , December 15 2017

बेटे की लाश गोद में लिए बदहवास घूमता रहा वह

मुजफ्फरनगर, 10 सितंबर: 'दंगों में इंसान नहीं मरता, इंसानियत मरती है।' नफरत की आग में झुलस रहा उत्तर प्रदेश का मुजफ्फरनगर आज यही देख रहा है। गलियों से लेकर गांवों तक दंगों के खौफ से मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। स्कूल, कॉलेज बंद हैं और लोग

मुजफ्फरनगर, 10 सितंबर: ‘दंगों में इंसान नहीं मरता, इंसानियत मरती है।’ नफरत की आग में झुलस रहा उत्तर प्रदेश का मुजफ्फरनगर आज यही देख रहा है। गलियों से लेकर गांवों तक दंगों के खौफ से मातमी सन्नाटा पसरा हुआ है। स्कूल, कॉलेज बंद हैं और लोगों का रोजगार भी बंद है।

अपने गुड़ की मिठास के लिए मशहूर इस शहर के लोगों के रिश्तों में रातोंरात कड़ुवाहट घुल गई है। हालात यह हैं कि दंगों की आग से बचने के लिए लोग गांव छोड़ कर महफूज़ वाले इलाको की तलाश में हैं।

सड़कों पर कर्फ्यू के सन्नाटे के बीच हिला देने वाले वाकिये सामने आ रहे हैं। इतवार के रोज़ एक बेबस बाप गोद में चार दिन के बेटे की लाश को गोद लिए बदहवास घूमता रहा। जगमाल का बच्चा बीमार था और उसे सिटी अस्पताल में नर्सरी में रखा गया था। इतवार को उसकी मौत हो गई।

शहर में कर्फ्यू की वजह से बीवी को हॉस्पिटल में छोड़ वह उसे दफन करने के लिए 15 किलोमीटर दूर अपने गांव ले जाना चाहता था, लेकिन घर जाने का कोई ज़रिया नहीं मिला। वह पूरे शहर में बेटे की लाश को उठाए अकेला बेसुध घूमता रहा। बेटे की लाश को कैसे वह घर ले जाकर दफनाए उसे समझ नहीं आ रहा था।

हफ्ते के दिन से तीन थाना इलाके नई मंडी, शहर कोतवाली और सिविल लाइंस में कर्फ्यू लगा है। नई मंडी इलाके में एशिया की सबसे बड़ी गुड़ की मंडी पर भी सन्नाटा पसरा हुआ है। मुजफ्फरनगर के आसपास के कुतबा कुतबी, शाहपुर, सोरम, तवली समेत 15 गांव दंगे के खौफ में घरों में बंद हैं। हालात यह है कि कर्फ्यू अगर कुछ दिन और जारी रहा तो, खाने के लाले पड़ जाएंगे। नई मंडी की रहने वाली 54 साला सोशल वर्कर वीना शर्मा के मुताबिक, ‘अगर हालात काबू में नहीं आए और दो दिन कर्फ्यू जारी रहा तो दूध, सब्जी का बोहरान पैदा हो जाएगा।’

उधर इस हालात के लिए लोगों का गुस्सा अखिलेश की हुकूमत पर फूट रहा है। सिविल लाइंस और नई मंडी इलाके के कई लोग मामले को बिगड़ते देने के लिए साजवादी पार्टी पर बरस रहे हैं। उनके मुताबिक मुकामी समाजवादी पार्टी लीडरों के दबाव में पुलिस ने कवाल गांव में मारे गए दो नौजवानो के कातिलों के खिलाफ कार्रवाई न कर हालात बिगड़ने दिया।

डिग्री कॉलेज के एक रिटायर्ड प्रिंसिपल के मुताबिक अगर नजवानो के कातिलों को अरेस्ट कर लिया जाता तो हालात नहीं बिगड़ते। शिव चौक और छप्पर के ज़्यादतर मुकामी पुलिस इंतेज़ामिया के समाजवादी पार्टी के लीडरो के हाथों खेलने की बात कह रहे हैं।

बशुक्रिया: नव भारत टाइम्स

TOPPOPULARRECENT