Wednesday , November 22 2017
Home / Mumbai / बेनामी संपत्ति के नाम पर कहीं जनता की चड्ढी-बनियान न उतरवा दे मोदी: उद्धव ठाकरे

बेनामी संपत्ति के नाम पर कहीं जनता की चड्ढी-बनियान न उतरवा दे मोदी: उद्धव ठाकरे

मुंबई: भारतीय जनता पार्टी पर एक और हमला करते हुए उसकी सहयोगी शिव सेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा कि वह देश में बेनामी संपत्ति का पर्दाफाश करने के नाम पर जनता की चड्ढी-बनियान न उतारें. शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने पार्टी के मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा है, ‘नोटबंदी के बाद अब प्रधानमंत्री ने बेनामी संपत्तियों पर निशाना साधा है. यह एक अत्यंत सराहनीय कदम है. लेकिन नोटबंदी की ही तरह बेनामी संपत्तियां निकालने की आड़ में गरीब और मध्यम वर्ग को नहीं कुचला जाना चाहिए.’

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ इंडिया 18 के अनुसार, शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा कि बहुत सारे राजनेताओं, व्यापारियों, प्रवासी भारतीयों और माफिया ने पहले से ही अपना कालाधन संपत्तियों में निवेश कर रखा है. लेकिन, विडंबना यह है कि नोटबंदी के बाद आम आदमी पर बेईमान होने का लेबल चस्पा कर दिया गया.
अफसोस जताते हुए उद्धव ठाकरे ने लिखा है, ‘मोदी ने विदेश में बैंकों में रखी भारतीयों की अवैध कमाई को वापस लाने को वादा किया था. लेकिन सच्चाई है कि एक रुपया भी नहीं बरामद किया गया और न ही ऐसा धन रखने वालों को एक पैसे का भी नुकसान हुआ. आम जनता ने नोटबंदी की चोट को सहा और अब भी जनता कष्ट झेल रही है. लेकिन काला धन रखने वाला एक भी आदमी या उद्योगपति जेल में नहीं डाला गया.
पाकिस्तान पर सितंबर में हुए सर्जिकल स्ट्राइक पर ठाकरे ने कहा कि पड़ोसी (पाकिस्तान) आतंक का खेल जारी रखे हुए है और इसके परिणाम स्वरूप अब तक 50 से अधिक सैनिक शहीद हो चुके हैं. सर्जिकल स्ट्राइक को सरकार के लिए बड़ी जीत के रूप में प्रचारित किया गया लेकिन वे (सरकार) हमारे सैनिकों का बचाव करने में नाकाम रहे. अब एक सवाल है: वास्तव में बेईमान कौन है?
उन्होंने सरकार से यह सुनिश्चित करने को कहा कि बेनामी संपत्तियों के खिलाफ प्रस्तावित कार्रवाई में इस तरह (नोटबंदी जैसी) की असुविधा नहीं हो और जनता को कपड़े उतार कर सड़कों पर नहीं फेंक दिया जाए.

TOPPOPULARRECENT