Saturday , December 16 2017

बैनउल क्वामी तनाज़आत के हल के मर्कज़ होगा नालंदा : नीतीश

वज़ीरे आला ने कहा कि क़दीम नालंदा यूनिवर्सिटी को फिर से बहाल किया जा रहा है। इसके मेंटर ग्रुप में मुखतलिफ़ मुल्कों के नुमाइंदों को शामिल किया गया है। इसकी तामीर में कई मुल्कों का मदद लिया जा रहा है। तमाम सहूलतों से लैस बैनउल क्वामी क

वज़ीरे आला ने कहा कि क़दीम नालंदा यूनिवर्सिटी को फिर से बहाल किया जा रहा है। इसके मेंटर ग्रुप में मुखतलिफ़ मुल्कों के नुमाइंदों को शामिल किया गया है। इसकी तामीर में कई मुल्कों का मदद लिया जा रहा है। तमाम सहूलतों से लैस बैनउल क्वामी कन्वेंशन हॉल की तामीर किया गया है। हमारी कोशिश यह है कि इस कन्वेंशन हॉल के जरिये मुखतलिफ़ मुल्कों के दरमियान के तनाज़ा का हल हो। इसके लिए कोसिश किये जा रहे हैं। बुद्ध ने एदम तशद्दुद की बात न सिर्फ इंसान के लिए, बल्कि मख़लूक़, दरख्त, नदी, पहाड़ सब के ताईन हमदर्दी बरतने की बात कही थी।

वहीं, सैयाहत महकम की तरफ से बैन उल कवमी बौद्ध-राहियों को भी नवाजा गया। जापान के अहम बौद्ध राही एस सुगई ने वज़ीरे आला नीतीश कुमार के सेहतमंद और मौसिर रहने की मरीख दुआ की। प्रोग्राम का एहतेमाम श्वेता महाथिर ने किया। इस मौके पर एसेम्बली में जदयू अहम अलर्ट श्रवण कुमार, एमपी कौशलेंद्र कुमार, एसेम्बली रुक्न जीतेंद्र कुमार, साबिक़ एसेम्बली रुक्न सुनील कुमार, जदयू के रियासती जेनरल सेक्रेटरी डॉ विपिन कुमार यादव, जदयू के जिला सदर सियाशरण ठाकुर, जेनरल सेक्रेटरी अविनाश मुखिया, उपेंद्र कुमार विभूति, रियासती सेक्रेटरी मुन्ना सिद्दीकी वगैरह मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT