Wednesday , December 13 2017

बॉक्सर आमिर ख़ां का वेल्टर वेट केरियर का शानदार जीत

दो बार आलमी चैंपियन रहने वाले पाकिस्तानी नज़ाद बर्तानवी बॉक्सर आमिर ख़ान ने वेल्टर वेट मैच में लास वेगास मेंलोई कोलाज़ को वाज़िह अंदाज़ में मात दे दी। इस तरह आमिर ख़ान ने कोलाज़ के ख़िलाफ़ जीत‌ के साथ अपने वेल्टर वेट केरीयर का शुरुआत‌ किया

दो बार आलमी चैंपियन रहने वाले पाकिस्तानी नज़ाद बर्तानवी बॉक्सर आमिर ख़ान ने वेल्टर वेट मैच में लास वेगास मेंलोई कोलाज़ को वाज़िह अंदाज़ में मात दे दी। इस तरह आमिर ख़ान ने कोलाज़ के ख़िलाफ़ जीत‌ के साथ अपने वेल्टर वेट केरीयर का शुरुआत‌ किया है।

इस से पहले उन्होंने लाईट वेल्टर वेट ( कम वज़न वाले) दर्जा में आलमी ख़िताब हासिल किया था। वेल्टर वेट दरमयाने वज़न से कम होता है और ओलम्पिकस ने इस दर्जे को 64 किलो ग्राम से 69 किलो ग्राम वज़न के दर्जे में रखा है। आमिर ख़ान इस दर्जे के माया नाज़ बॉक्सर फ्लूइड मै वैदर के मद्द-ए-मुक़ाबिल होने की ख़ाहिश रखते थे लेकिन अमेरिकी बॉक्सर मै वैदर ने उनके बजाय अर्जनटाइन के बॉक्सर मार्कोज़ मैदाना से मुक़ाबले को तर्जीह दी।

ताहम 27 साला आमिर ख़ान का कहना है कि वो इस मुक़ाबले से मै वैदर को लालच देने की कोशिश करेंगे। बहरहाल मुबस्सिरीन का ख़्याल है कि अभी आमिर को मै वैदर के मद्द-ए-मुक़ाबिल आने से क़बल मज़ीद कुछ मैचस‌ खेलने चाहिए। आमिर ख़ान ने अपने हरीफ़ अमेरीकी बॉक्सर लोई कोला ज़ौ को वासा अंदाज़ में मात से दो-चार किया।

आमिर ख़ान को तमाम जजों ने कामयाब क़रार दिया। दो जजों ने उन्हें 104 के 119 प्वाईंटस दिए जबकि एक जज ने 106 के मुक़ाबले में 117 प्वाईंटस दिए। इससे वाज़िह है कि आमिर रंग में किस क़दर छाए हुए थे। आमिर ख़ान पहले राउंड से ही हावी रहे और तक़रीबन हर दौर में उन्होंने अपने हरीफ़ पर बरतरी हासिल की।

सिर्फ़ आठवीं राउंड में कोलाज़ ने आमिर के ख़िलाफ़ एक प्वाईंट ज़्यादा हासिल किए। बारह रो अनिला के इस मुक़ाबले में आख़िरी राउंड में आमिर हर चंद के गिरे ताहम उन्होंने प्वाईंटस नहीं गंवाए। आमिर के लिए 10 वां राउंड बहुत सूदमंद साबित हुआ जिस में उन्होंने तीन प्वाईंटस ज़्यादा हासिल किए। मुबस्सिरीन का कहना है कि एक साल बाद रंग में उतरने के बाद भी आमिर ख़ान में किसी किस्म की कमी का एहसास नहीं।

मुबस्सिरीन का कहना है कि एक साल बाद रंग में उतरने के बाद भी आमिर ख़ान में किसी किस्म की कमी का एहसास नहीं होता यानी उनके बाज़ू अभी शॅल नहीं हुए हैं इन में ज़ंग नहीं लगा है। इस पूरे मुक़ाबले में तीन बार ऐसा महसूस हुआ था कि आमिर ख़ान अपने हरीफ़ कोलाज़-ओ-को नाक आउट‌ करदेंगे।

TOPPOPULARRECENT