Tuesday , November 21 2017
Home / Delhi / Mumbai / बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने संजय दत्त की जल्‍द रिहाई पर महाराष्‍ट्र सरकार से पूछा-अच्छे आचरण का पैमान क्या था ?

बॉम्‍बे हाईकोर्ट ने संजय दत्त की जल्‍द रिहाई पर महाराष्‍ट्र सरकार से पूछा-अच्छे आचरण का पैमान क्या था ?

अभिनेता संजय दत्त एक बार फिर मुश्किल में पड़ सकते हैं. बॉम्‍बे हाई कोर्ट ने जेल से उनकी जल्‍दी रिहाई पर महाराष्‍ट्र सरकार से सवाल पूछा है. अदालत ने राज्‍य सरकार से कहा है कि वह संजय दत्त की जल्‍दी रिहाई को सही साबित करे.

मामला संजय दत्त को 1993 के सीरियल बम विस्फोटों के मामले में जेल से जल्द रिहा करने से जुड़ा है. दत्त को हथियार रखने के मामले में पांच साल कैद की सजा सुनाई गयी थी. लेकिन संजय दत्त को अच्छे आचरण का हवाला देकर जेल से 8 महीने पहले ही छोड़ दिया गया ।

मुकदमे के दौरान जमानत पर चल रहे संजय दत्त ने हाईकोर्ट के द्वारा भी दोषी रखे जाने पर मई 2013 में आत्मसमर्पण कर दिया था. संजय दत्त को पुणे की यरवदा जेल में रखा गया था ।

न्यायमूर्त आर एम सावंत और न्यायमूर्त साधना जाधव की खंडपीठ सोमवार को पुणे निवासी प्रदीप भालेकर की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही थी. भालेकर ने दत्त के सजा काटते समय उन्हें बार बार परोल और फरलो दिये जाने को चुनौती दी थी.

अदालत ने राज्य सरकार को हलफनामा दाखिल करने को कहा जिसमें उल्लेख हो कि दत्त के साथ नरमी बरते जाते समय किन मानदंडों पर विचार किया गया और क्या प्रक्रिया अपनाई गयी.

न्यायमूर्त सावंत ने कहा, क्या डीआईजी, कारावास से सलाह ली गयी या जेल अधीक्षक ने सीधे अपनी सिफारिश राज्यपाल को भेज दी? उन्होंने कहा, ‘यह भी बताइये कि अधिकारियों ने यह मूल्यांकन कैसे किया कि दत्त का आचरण अच्छा था? जब वह आधे समय परोल पर रहे तो अधिकारियों को इस तरह का आकलन करने का वक्त कब मिल गया?’ अदालत मामले में एक हफ्ते बाद आगे की सुनवाई करेगी.

मुंबई की टाडा अदालत ने 31 जुलाई, 2007 को संजय दत्त को शस्त्र अधिनियम के तहत छह साल के कड़े कारावास की सजा सुनाई थी और 25000 रुपये का जुर्माना लगाया था. उच्चतम न्यायालय ने 2013 में फैसले को कायम रखा लेकिन सजा को घटाकर पांच साल का कर दिया.

इसके बाद दत्त ने बाकी सजा काटने के लिए आत्मसमर्पण कर दिया था. दत्त को जेल में सजा काटने के दौरान दिसंबर 2013 में 90 दिन की परोल दी गयी थी. बाद में 30 और दिन की परोल दी गयी थी.

TOPPOPULARRECENT