Wednesday , December 13 2017

बोधगया बम ब्लास्ट मामला : मुजिबुल्लाह व हैदर ने तालिबे इल्म बन किराये पर लिया था लॉज

बोधगया बम ब्लास्ट मामले में एनआइए के खुसूसी जज मनोज कुमार सिन्हा की पटना अदालत में मंजर इमाम ने अपना बयान दर्ज कराया. मंजर इमाम ने अपनी गवाही के दौरान अदालत को बताया कि मुजिबुल्लाह और हैदर अली रांची वाक़े इरम लॉज का कमरा नंबर-8 को 1900 रुपये फी माह में बुक कराया था. उन्होंने बताया कि दोनों मुलजिम अपने को झारखंड पब्लिक सर्विस कमीशन का कॉम्पिटिशन तालिबे इल्म बताया था. लॉज के केयर टेकर शमीम अख्तर ने उनका तफ्सीलात रजिस्टर में दर्ज किया था.

गवाह ने बताया कि चार नवंबर, 2013 को जब हिंदपिंडी थाने की पुलिस आयी, तो फोन से गवाह को बुलाया गया और  आने के बाद गवाह ने देखा कि कमरा नंबर आठ में ताला बंद है.

पुलिस के सामने ताले को तोड़ कर जब कमरे की तलाशी ली गयी, तो उसमें नौ घड़ी बम, दो से ढाई किलो लोहे की कील व दीगर कबीले एतराज़ कागजात बरामद किये गये. पुलिस ने बरामद सामान की जब्ती फेहरिस्त तैयार की. जब्ती फेहरिस्त पर गवाह ने अपने दस्तखत की शिनाख्त की.

अदालत में मौजूद मुलजिम मुजिबुल्लाह वह हैदर अली को भी गवाह ने शिनाख्त किया. मामले की सुनवाई जारी है. गौरतलब हो कि सात जुलाई, 2013 की सबुह में बोधगया में मंदिर समेत कई मुकामात पर बम धमाके किया गया था, जिसमें तकरीबन एक दर्जन लोग जख्मी हो गये थे.

में मंदिर अहाते के पास से कई जिंदा बम बरामद किये गये थे. मुलजिम वारदात को अंजाम देने के कुछ दिन पहले रांची वाक़े इरम लॉज को बुक करा कर रह रहे थे. उसी लॉज में रह कर वारदात को अंजाम देने की पालिसी बनायी थी. उस मामले में मुजिबुल्लाह वह हैदर अली समेत छह मुलजिम जेल में बंद हैं.

 

TOPPOPULARRECENT