बोल्ट ओलम्पिक्स में अपने ख़ताबात के बचाव‌ केलिए पुरअज्म

बोल्ट ओलम्पिक्स में अपने ख़ताबात के बचाव‌ केलिए पुरअज्म
गोल्डन अथीलीट यूसैन बोल्ट जिन्होंने तीन ओलम्पिक्स ख़ताबात यके बाद दीगरे हासिल किए हैं वो 2016 को रेवड़ी जेनेरो में होनेवाले ओलम्पिक्स में अपने तमाम तीन ख़ताबात का दिफ़ा करने केलिए पुरअज्म हैं ।

गोल्डन अथीलीट यूसैन बोल्ट जिन्होंने तीन ओलम्पिक्स ख़ताबात यके बाद दीगरे हासिल किए हैं वो 2016 को रेवड़ी जेनेरो में होनेवाले ओलम्पिक्स में अपने तमाम तीन ख़ताबात का दिफ़ा करने केलिए पुरअज्म हैं ।

उन्होंने 100 200 और 4×100 मीटर्स की दौड़ में गोल्ड मैडल हासिल किया है। ज़्यो रुख़ में डाइमंड लीग इजलास के दौरान इज़हार-ए-ख़्याल करते हुए यूसैन बोल्ट ने कहा कि में रियो का सफ़र दरअसल अपने ख़ताबात के दिफ़ा केलिए कररहा हूँ। मास्को में मुनाक़िदा आलमी अथीलीट चैम्पिय‌न शिप में गोल्ड मैडल हासिल करने वाले यूसैन बोल्ट यहां 100 मीटर की दौड़ में हिस्सा ले रहे हैं।

यूसैन बोल्ट जो पहले ही बेजिंग और लंदन में मुनाक़िदा ओलम्पिक्स में मज़कूरा बाला तीनों ज़ुमरे के सुनहरी ख़ताबात हासिल किए हैं और उनसे फिर एक मर्तबा उम्मीद की जा रही है कि वो 2016 ओलम्पिक्स में अपने ख़ताबात का दिफ़ा करेंगे। लगातार‌ तीन मर्तबा ख़ताबात हासिल करने का रिकार्ड बोल्ट के नाम ही दर्ज हैं। क्योंकि ऐसा कारनामा अभी तक किसी ने अंजाम नहीं दिया है।

Top Stories