ब्रिटेन यूरोपीय संघ से अलग होना प्रभाव पर भारत सतर्क

ब्रिटेन यूरोपीय संघ से अलग होना प्रभाव पर भारत सतर्क
Click for full image

नई दिल्ली: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज कहा कि भारत ब्रिटेन यूरोपीय संघ छोड़ने की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है जेटली ने यहां जारी एक बयान में कहा, “जहां तक भारतीय अर्थव्यवस्था का सवाल है, हम ब्रिटेन यूरोपीय संघ छोड़ने के तत्काल और मध्यम अवधि के प्रभाव से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। हम अपनी व्यापक अर्थव्यवस्था के ढांचे के संबंध में पूरी तरह प्रतिबद्ध हैं जिसका उद्देश्य स्थिरता बनाए रखना है.हमारी व्यापक अर्थव्यवस्था का आधार मजबूत है .माली अनुशासन और मुद्रास्फीति कम करने के संबंध में हमारा वाचा है .खा्रवाह विदेशी मुद्रा भंडार के रूप में हमारे त्वरित और मध्यावधि सुरक्षा कवच भी मजबूत हैं। “ब्रिटेन यूरोपीय संघ छोड़ने पर बुधवार को हुए जनमत संग्रह के बाद 90 प्रतिशत से अधिक वोटों की गिनती हो चुकी है और इसमें यूरोपीय संघ छोड़ने के पक्ष में राय बन चुकी है .जेटली ने कहा, “हम जनमत के फैसले का सम्मान करते है.साथ ही हमें आने वाले समय और मध्यम अवधि में उस के महत्व का भी अनुमान है|

मैं हमेशा कहता रहा हूं कि आज की वैश्विक दुनिया में उथल पुथल और अस्थिरता ही दो सिद्धांत हैं .अवाम के इस फैसले से उथल पुथल अधिक बढ़ेगी क्योंकि ब्रिटेन, यूरोप और दुनिया भर में इसका पूरा प्रभाव कैसा होगा यह अभी अनिश्चित है .सभे देशों को जनता के फैसले के मध्यम अवधि में पड़ने वाले प्रभाव के प्रति सावधान रहना होगा और इसके बुरे प्रभाव के लिए खुद को तैयार करना होगा.वज़ीर वित्त मंत्री ने कहा कि ऐसे समय में जब दुनिया भर के निवेशक सुरक्षित निवेश जगह की तलाश में हैं, स्थिर और विकास के पैमाने पर भारत बेस्ट स्थान है .हिन्दुस्तान दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेजी से विकास कर रहा है .अच्छा मानसून की संभावना हमारे विकास दर और मुद्रास्फीति कृमें सुधार जारी है। सरकार और रिजर्व बैंक पूरी तरह तैयार है और जल्दी उथल पुथल से निपटने के लिए मिलकर काम कर रहा है। हमारा लक्ष्य अर्थव्यवस्था पर इसके बुरे प्रभाव को कम करना है।

Top Stories