Monday , December 18 2017

ब्लू फिल्म बनाकर करता था ब्लैकमेल मगर…

इलाहाबाद, 23 फरवरी: प्यार, सेक्स, एमएमएस से ब्लैकमेलिंग और फिर कत्ल तक पहुंची यह कहानी किसी फिल्म की तरह लगती है। हमेशा मॉडल की तरह सजधज कर रहने वाले निर्गम ने कभी सोचा भी न होगा कि जिन माशुकाओं के जिस्म से वह खेलता चला आ रहा है वह उसकी

इलाहाबाद, 23 फरवरी: प्यार, सेक्स, एमएमएस से ब्लैकमेलिंग और फिर कत्ल तक पहुंची यह कहानी किसी फिल्म की तरह लगती है। हमेशा मॉडल की तरह सजधज कर रहने वाले निर्गम ने कभी सोचा भी न होगा कि जिन माशुकाओं के जिस्म से वह खेलता चला आ रहा है वह उसकी मौत का ऐसा जाल भी बुनेंगी।

इस कहानी की शुरूआत करीब दस महीने पहले शुरू हुई थी। जहानाबाद का रहने वाले निर्गम प्रकाश इग्नू से बीसीए कर रहा था। एमएनएनआईटी में उसका सेंटर था और वहीं के रमन हॉस्टल में वह रहता था। वहीं बीसीए में पढ़ने वाली धूमनगंज की तलबा दीप्ति (बदला हुआ नाम) से उसकी आंखें चार हुई और दोनों में जिस्मानी रिश्ते बन गए।

दीप्ति जब निर्गम से मिलने जाती थी तो पड़ोस में रहने वाली अपनी सहेली अनु (बदला हुआ नाम) को भी ले जाती थी। निर्गम ने अनु को देखा तो उससे भी मोहब्बत का नाटक करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे वह दीप्ति को छोड़कर अनु को पटाने लगा और शादी का झांसा देकर उससे भी ताल्लुक बनाने लगा।

कई महीनों तक चले इस डबल गेम से दीप्ति और अनु को शक हुआ। दोनों ने आपस में बातचीत की तो पोल उसकी खुल गई। इसके बाद निर्गम ब्लैकमेलिंग पर उतर आया। उसने इन दोनों के एमएमएस, फहश तश्वीरो के जरिए धमकी देना शुरू कर दिया।

जब दोनों लड़कियों ने निर्गम के ब्लैकमेलिंग से तंग आ गईं तो उन्होंने अपने भाइयों को ये सारी कहानी बता दी। दीप्ति के भाई बाबू और अनु के भाई लकी यादव और ऋषिराज सिंह ने लड़कियों से निर्गम को बुलाने को कहा। जुमेरात को अनु ने निर्गम को फोन कर खुसरोबाग में बुलाया। दीप्ति भी वहीं मौजूद थी। पहले अनु फिर दीप्ति से निर्गम का झगड़ा हुआ।

वह फोटो और चिप देने को तैयार नहीं था। दीप्ति ने जिद की तो निर्गम उसे थप्पड़ मारने लगा। दूर छिपकर सबकुछ देख रहे लड़कियों के भाइयों से बर्दाश्त नहीं हुआ। वह पहुंचे और निर्गम पर तमंचा निकाल कर सीने में गोली मार दी।

जब निर्गम को गोली से उड़ाया गया तो माशूका दीप्ति ठीक उसके बगल में बैठी थी। दीप्ति सबसे पहले उसके मोबाइल पर झपटी। उसने निर्गम का मोबाइल उठाया और दौड़ पड़ी। बाइक पर फरार हुई दीप्ति ने सबसे पहले उस मोबाइल को कूंचा और चिप को दांत से चबाकर फेंक दी।

पुलिस के मुताबिक, निर्गम धोखाधड़ी का बहुत बड़ा खिलाड़ी थी। लड़कियों से वह झूठ बोलता था। किसी तलबा से कहता था कि वह आईआईटी कानपुर का टापर है तो किसी को बताता था कि आरबीआई में उसका सेलेक्शन हो गया। एक तलबा से उसने खुद को इंकम टैक्स आफीसर बताया था।

निर्गम के पास से पुलिस ने बहुत सारी लड़कियों की फोटो बरामद की है , दर्जनों लड़कियों से वह झूठ बोलकर चैटिंग करता था। घरवालों से भी उसने झूठ बोला था।

——–बशुक्रिया: अमर उजाला

TOPPOPULARRECENT