Monday , December 18 2017

भागलपुर मजहब तब्दील : तीन लोगों को घर वापसी

बुद्धुचक थाना के तहत बरोहिया गांव में पीर की रात मज़हब तब्दील करने वाले पांच लोगों वासुदेव मंडल, राधे मंडल, पावो देवी, ललिता देवी, सुनीता देवी में से तीन बुधवार को फिर से पुराने मजहब में लौट आये। राधे मंडल, ललिता देवी व सुनीता देवी ने

बुद्धुचक थाना के तहत बरोहिया गांव में पीर की रात मज़हब तब्दील करने वाले पांच लोगों वासुदेव मंडल, राधे मंडल, पावो देवी, ललिता देवी, सुनीता देवी में से तीन बुधवार को फिर से पुराने मजहब में लौट आये। राधे मंडल, ललिता देवी व सुनीता देवी ने दुर्गा स्थान में पूजा कर प्रसाद चढ़ाया। राधे मंडल ने कहा कि पहले का हिंदू मजहब के पूजा का सामान गंगा में फादर ने फेंकवा दिया था।

ओहदेदारों ने की पूछताछ

बुध की सुबह बीडीओ सत्यनारायण पंडित, ब्लॉक ज़िराअत ओहदेदार अभिषेक कुमार व बुद्धुचक थाना इंचार्ज दुर्गेश कुमार, मुखिया निशिकांत मंडल और साबिक़ एमएलए अंबिका मंडल मजहब तब्दील करने वाले वासुदेव मंडल के घर पर पहुंचे। उससे पूछताछ की गयी। वासुदेव मंडल ने कहा कि मैं हमेशा बीमार रहता था। मेरे मुंह से खून गिरता था। मुक़ामी अस्पताल से लेकर जिला अस्पताल और पटना में भी इलाज कराया, लेकिन बीमारी दूर नहीं हुई। इस दौरान एक रिश्तेदार के कहने पर फादर मोकीम के राब्ते में आया। मैने 15 दिसंबर की रात खुद की मर्ज़ी से मजहब तब्दील किया। पावो देवी ने कहा उसे मजहब तब्दील करने से फायदा हुआ है। मेरे सभी बेटे अलग रहते है। मैं बेवा हूं। न तो जईफ पेंशन और न राशन कार्ड मिला है। तमाम सरकारी सहूलतों से महरूम हूं। राधे मंडल, सुनीता देवी भी खुद की मर्ज़ी से मजहब तब्दील करने की बात कही। ओहदेदारों के सामने ही कुछ लोग वासुदेव मंडल से भिड़ गये।

थाना इंचार्ज ने गाँव वालों को पुर अमन कराया। सभी ने अपनी मर्ज़ी से मजहब तब्दील की बात कही थी। गाँव वालों ने कहा कि पीर की रात माइक लगा कर बाइबल के खुतबात दिये जा रहे थे। इसी दौरान मजहब तब्दील कराया गया। इससे गुस्साये गांव के दीगर लोगों ने मंगल को बुद्धुचक थाना को इसकी इत्तिला दी। पुलिस ने मजहब तब्दील करने वाले पांचों खातून-मर्द से उनके घर पहुंच कर बयान लिया। सभी ने अपनी मर्ज़ी से मजहब तब्दील करने की बात कही।

TOPPOPULARRECENT