Thursday , November 23 2017
Home / Politics / भाजपा के लिए जिन्ना धर्मनिरपेक्ष हैं और महात्मा गाँधी सांप्रदायिक –दिगविजय सिंह

भाजपा के लिए जिन्ना धर्मनिरपेक्ष हैं और महात्मा गाँधी सांप्रदायिक –दिगविजय सिंह

कांग्रेस पार्टी के महासचिव दिगविजय सिंह ने भाजपा पर चोट करते हुए कहा कि भाजपा ने “धर्मनिरपेक्षता” का अर्थ बदल दिया है और अपने राजनीतिक फायेदे के लिए सुविधाजनक मुद्दे उठा रही है.
सदभावना दिवस के मौके पर सभा को संबोधित करते हुए दिगविजय सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी की आलोचना करते हुए कहा कि भाजपा ऐसे मुद्दे उठा रही है जो जनता को सांप्रदायिकता के आधार पर बाट देगा. आज जो लोग भाजपा का विरोध करते हैं उन्हें देशद्रोही करार दिया जाता है और जो लोग भाजप को समर्थन करते हैं उन्हें राष्ट्रवादी की उपाधि दी जाती है.
दिगविजय सिंह ने यह भी कहा कि भाजपा और संघ के नज़रिये में मोहम्मद अली जिन्नाह जिसने देश को बाटने का काम किया वे “धर्मनिरपेक्ष” हैं और देश के लिए लड़ने और हिन्दू-मुस्लिम एकता के लिए अपने सीने पर गोली खाने वाले महात्मा गाँधी “सांप्रदायिक”
उन्होंने भाजपा पर एक और आरोप लगाते कहा कि बह्पा भारतीय सेना द्वारा दी गयी कुर्बानी का राजनीतिक लाभ ले रही है.
हाल में रक्षा मंत्री मनोहर परिकर द्वारा दिए गये बयान “सेना द्वारा किया गया सर्जिकल स्ट्राइक संध की शिक्षा का परिणाम है” पर पलटवार करते हुए सिंह ने कहा कि क्या यह सेना का अपमान नहीं है?
हमारे विदेश सचिव ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक पहले भी होते रहे हैं इसे कोट करते हुए दिगविजय सिंह ने रक्षा मंत्री से पूछा कि क्या तब भी भारतीय सेना संघ की विचाधारा से प्रभावित थी?
आप को बता दूँ कि कल हमारे विदेश सचिव एस जयशंकर ने संसदीय समिति के सामने कहा कि पहले भी भारतीय सेना द्वारा ऐसे आतंकवादियों को मुह तोड़ जवाब देने के लिए जवाबी कार्यवाही करती रही है लेकिन पहली बार सरकार द्वारा इसकी जानकारी जनता को दी गयी है.
कांग्रेस के वरिष्ट नेता दिगविजय सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दशहरा के मौके पर लखनऊ में दिए गये उस बयान पर भी टिप्पणी की जसमें मोदी ने कहा था कि “देश युद्ध नहीं बुद्ध (बुद्ध यानि शांति) की ओर जाना चाहता है” सिंह ने कहा कि देखना होगा कि सम्राट अशोक कि तरह शांति लेन से पहले ये सरकार हजारों लोगों की ज़िन्दगी बर्बाद कर देना चाहती है.
दिगविजय सिंह ने यह भी दावा किया कि राजग कि वर्तमान सरकार सभी मोर्चों पर विफल रही है. FDI में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है न ही कोई कला धन वापिस आया है और बेजोगारी अपने चरम को छु रही है. इन सभी मुद्दों पर अपनी नाकामयाबी को छुपाने के लिए दिन्दुस्तान-पाकिस्तान के बीच जंग चाहती है.
हाल में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा सरकार को सामान नागरिक संहिता के मुद्दे पर विपक्ष का मत जानने सुझाव दिया गया है जिसके बाद सामान नागरिक संहिता के मुद्दे पर बहस तेज हो गयी है इस मुद्दे पर कांग्रेस का रुख साफ़ करते हुए दिगविजय सिंह ने कहा कि “कांग्रेस ने पहले भी सभी धार्मिक नेताओं के मत लिए और फैसला किया कि सभी नागरिक को संवैधानिक अधिकार प्राप्त हैं और रही शादी कि बाट तो यह नागरिक के धार्मिक आस्था पर आधारित होगा.
और अगर आप सामान नागरिक संहिता लाना चाहते हैं तो सभी धर्मो के धार्मिक नेताओं से बाट करें साथ ही सभी राजनीतिक पार्टियों के साथ चर्चा कर उनका मत जाने. अगर आप किसी खास धर्म के अधिकार को दबेंगे तो कांग्रेस इसका विरोध करेगी.
उन्होंने तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंर्शेखर राव पर इल्ज़ाम लगते हुए कहा कि से सत्तापक्ष TRS पार्टी में बगावत पैदा कर रहे हैं.
तेलंगाना पीसीसी के अध्यक्ष उत्तम कुमार रेड्डी, पूर्व केंद्रीय मंत्री एस जैस्पाल ने भी बाद में सभा को संबोधित किया. हिमाचल प्रदेश उच्चय न्यायालय के पूर्व जस्टिस एम एन राव को सदभावना अवार्ड 2016 दिया गया.

TOPPOPULARRECENT