Wednesday , December 13 2017

भाजपा को स्वीकार हार, राष्ट्र से क्षमा करने कांग्रेस की मांग

देहरादून: कांग्रेस को जबरदस्त सफलता हासिल हुई जबकि आग मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सदन विधानसभा में पत्र विश्वास हासिल कर लिया। हालांकि परिणाम आधिकारिक तौर पर घोषणा नहीं की गई। भाजपा ने जल्दी हार कबूल कर लिया। जबकि 33 विधायकों ने रावत का समर्थन। जबकि विपक्ष अपने बलबूते पर केवल 28 वोट हासिल कर सकी। उत्तराखंड विधानसभा की सीटें 72 से घटकर केवल 62 रह गई हैं। अध्यक्ष ने वोट नहीं दिया और 9 बागी कांग्रेस विधायकों को वोट देने की अनुमति नहीं मिली। सुप्रीम कोर्ट ने मतदान की निगरानी की और कहा कि परिणाम की घोषणा कल की जाएगी। लेकिन बहुमत परीक्षण के कुछ मिनट बाद कांग्रेस ने जीत का बिगुल बजादी। कांग्रेस विधायक सरिता आर्य ने एक टीवी चैनल पर कहा कि कांग्रेस ने जीत हासिल कर ली है। 68 वर्षीय रावत जो सीधे कांग्रेस के कार्यालय को बहुमत साबित करने के बाद पहुंचे थे|

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष कांग्रेस राहुल गांधी, सभी विधायकों का नाम ब नाम और पार्टी कार्यकर्ताओं का धन्यवाद करते हुए कहा कि मुश्किल के समय में इन सभी ठोस समर्थन के परिणाम में वह जीत हासिल कर चुके हैं। केंद्र सरकार से रावत ने कहा कि मुठभेड़ की राजनीति छोड़ दे और राज्य के साथ उत्तराखंड को विकास के रास्ते पर ठोस प्रगति करने का अवसर दे। उन्होंने सभी प्रभावशाली लोगों से जो दिल्ली में हैं, इस शरीफ़ाना अभियान में समर्थित की अपील की। स्टिंग ऑपरेशन में उनके खिलाफ सीबीआई जांच के सिलसिले में उन्होंने कहा कि वह जेल जाने तैयार हैं। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट लोकतांत्रिक शक्तियों और स्वर्गीय शक्तियों का भी धन्यवाद जिन्होंने उत्तराखंड की जनता का समर्थन। भाजपा के सदस्य गणेश जोशी ने मतदान में विफलता को स्वीकार कर लिया। हालांकि कांग्रेस पर आरोप लगाया किया कि उसने मुद्रास्फीति और जोर बिल पर विधायकों के वोट हासिल किए हैं। कांग्रेस के वर्तमान में 27 और भाजपा के 28 विधायकों हैं। लेकिन अन्य 6 विधायकों सहित सीपीएम‌ के दो सदस्यों रावत के समर्थन में लिए तैयार थे हालांकि दोनों में विचारों का विरोध अभास है। खुशियों से समर्पित कांग्रेस ने उत्तराखंड की सफलता को लोकतंत्र की सफलता करार दिया।

पार्टी प्रवक्ता रणदीप सिंह सरजीवाला ने लोकतंत्र की सफलता करार देते हुए कहा कि साज़शियों को हार हुई। उन्होंने कहा कि सच्चाई हमेशा सफल रहती है। मुद्रास्फीति और जोर आखिरकार विफल हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा को जो रावत को सत्ता से बेदखल किया था, राष्ट्र से माफी करनी चाहिए। कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि लोकतंत्र ने जीत हासिल कर ली है। सुप्रीम कोर्ट की आभरनिगरानी मतदान आयोजित की गई जिसकी वजह से यह संभव हो सका हालांकि भाजपा ने लोकतंत्र को मारने की कोशिश की थी।

मुख्यमंत्री दिल्ली व प्रमुख आम आदमी पार्टी अरविंद केजरीवाल ने अपने ट्विटर पर लिखा किया कि हरीश रावत की सफलता मोदी सरकार के लिए धक्का है। उन्होंने उम्मीद जताई कि केंद्र निर्वाचित सरकारों को सत्ता से बेदखल करने से बाज़ आ जाएगा। बसपा नेता मायावती ने पहले दिन में कहा था कि उनकी पार्टी कांग्रेस का समर्थन करेगी। उन्होंने कहा कि हम हमेशा सांप्रदायिक शक्तियों के विरोधी रहे हैं। हमारे दो विधायकों कांग्रेस के समर्थन में वोट देंगे।

TOPPOPULARRECENT