Monday , June 18 2018

भारतीय वायुसेना में पहली बार महिला लड़ाकू पाईलटस शामिल

हैदराबाद: इतिहास रचते हुए अवानी चतुर्वेदी, भावना कानथ और मोहन सिंह ने आज पहली बार भारतीय वायुसेना की महिला पाईलटस बनने का गौरव हासिल कर लिया। भारतीय वायुसेना ने इन तीन महिलाओं को पाईलटस में शामिल करते हुए पहली बार मौका दिया है।

सशस्त्र बलों में जिंसी भेदभाव को समाप्त करते हुए रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने जो वायुसेना एकेडेमी डंडीगल पर आयोजित संयुक्त स्नातक समारोह में मुख्य अतिथि थे। इस अवसर पर वायु सेना के इतिहास का महत्वपूर्ण मील का पत्थर करार दिया। यह पहला मौका है कि लड़ाकू विमानों की उड़ान महिला पाईलटस करेंगी। उन्होंने कहा कि यह एक सुनहरे अक्षरों में लिखे जाने वाला दिन है।

भारतीय सशस्त्र बलों में कदम दर कदम जिंसी भेदभाव को समाप्त कर दिया जाएगा। आने वाले वर्षों में सशस्त्र बलों के अंदर पुरुष और महिला में कोई भेदभाव नहीं होगा। लेकिन कुछ क्षेत्रों में महिलाओं को शामिल करने में कलात्मक और प्रशासनिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है, लेकिन धीरे-धीरे जिंसी भेदभाव  को समाप्त कर दिया जाएगा। सेना में हम अपने बुनियादी ढांचे के माध्यम से जबरदस्त आदेश प्राप्त कर ली है।

उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इन 3 महिला पाईलटस जिन्होंने भारतीय वायुसेना के विभिन्न शाखाओं की फ़्लाईट कीडिटस के रूप में पूर्व कमीशन प्रशिक्षण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। अब यह महिला खुद को खुश नसीब कल्पना कर रही हैं। अब वह अपनी डयूटयों को हवा में पूरी क्षमता के प्रदर्शन के साथ अंजाम देंगी। ये तीनों महिला पायलट कर्नाटक के शहर बीदर जाएंगी जहां उन्हें तीसरे चरण की ट्रेनिंग दी जाएगी वहां पर एक साल तक हावुक अडवांसड जुट ट्रेनर्स का उड़ान प्रशिक्षण दिया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT