Friday , June 22 2018

भारत के पहले ओलिंपिक तैराक मेहबूब शमशेर खान नहीं रहे, लंबी बीमारी के चलते हुआ निधन!

विजयवाड़ा: भारत के पहले ओलंपिक तैराक महबूब शमशेर खान का लंबी बीमारी के चलते रविवार को निधन हो गया। वह 87 वर्ष के थे और अपने पीछे वह तीन बेटियां और दो बेटों को छोड़ गये हैं।

शमशेर, देश के पहले तैराक थे जिन्होंने 1956 मेलबोर्न ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व किया था। मेलबर्न खेलों में 200 मीटर बटरफ़्लाई और ब्रेस्टस्ट्रोक के इवेंट में चौथे स्थान पर पहुंचने के बाद उन्होंने एक पदक भी नहीं गंवाया।

खान, जिसने बटरफ़्लाई के इवेंट में राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया था, उन्होंने 1946 में सेना में शामिल होने के बाद तैराकी सीखी थी। उन्होंने चीन के खिलाफ 1962 में युद्ध और पाकिस्तान के खिलाफ 1971 के युद्ध के दौरान भाग लिया।

खान को 2010 में स्ट्रोक का सामना करना पड़ा था लेकिन उनकी दवा के लिए भी खर्च करना मुश्किल था। उन्होंने कई अवसरों पर शोक दिया कि सरकार ने उनके योगदान को स्वीकार नहीं किया और न ही कोई वित्तीय सहायता प्रदान की।

आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले के रेपल्ले के निकट एक छोटे से गांव इस्लामपुर में अपने घर में उन्होंने अपनी अंतिम सांस ली।

परिवार के सदस्यों के अनुसार, खान, जो कुछ दिनों से बीमार थे, छाती में दर्द की शिकायत करते थे। इससे पहले की उनको अस्पताल ले जाते, उनका निधन हो गया।

शमशेर की बहू एम. रोशन ने कहा, “उन्होंने सुबह छाती में दर्द की शिकायत की, इससे पहले कि हम अस्पताल पहुंच सकें, उनका निधन हो गया।”

सोमवार को इस्लामपुर में उनका अंतिम संस्कार किया गया था।

विपक्ष के नेता वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी ने शमशेर खान की मृत्यु पर दुःख व्यक्त किया और शोक संतप्त परिवार को अपनी संवेदना व्यक्त की।

TOPPOPULARRECENT