भारत के लोक सभा चुनाव तक पाक-भारत संबंध अच्छे नहीं रहेंगे : विशेषज्ञ

भारत के लोक सभा चुनाव तक पाक-भारत संबंध अच्छे नहीं रहेंगे : विशेषज्ञ

अगर पड़ोसी देशों और दक्षिण एशिया में भारत की विदेश नीति का आकलन करें तो कई झटके लगे हैं. बाकी सरकारों की तरह पाकिस्तान से इस सरकार में भी संबंध अच्छे नहीं हुए हैं. विशेषज्ञ कहते हैं, ”पाकिस्तान के साथ संबंध ख़राब सभी सरकारों के ज़रूर रहे हैं, लेकिन ये सरकार कुछ कन्फ़्यूज़ है. पाकिस्तान से बात होगी कि नहीं होगी, इस पर कोई स्पष्टता नहीं है. जम्मू-कश्मीर में इनकी गठबंधन वाली सरकार थी, लेकिन ठीक से चलने नहीं दिया. एक तरफ़ सख़्ती दिखाते हैं तो दूसरी तरफ़ पठानकोट में पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई को बुला लेते हैं. दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार भी मिलते हैं तो विदेश में मिलते हैं. सर्जिकल स्ट्राइक किया गया तो उसका ऐसे प्रचार-प्रसार किया गया मानो पाकिस्तान को कितना नुक़सान कर दिया गया है.”

कई आलोचकों का कहना है कि भारत की विदेश नीति में भूराजनैतिक दूरदर्शिता के अभाव के कारण ही उसका प्रभाव अपने भी इलाक़े में उस तरह से नहीं है. वरिष्ठ पत्रकार भारत भूषण कहते हैं, ”बीजेपी कांग्रेस की जिन नीतियों की आलोचना करती थी उस पर ख़ुद बुरी तरह से नाकाम होती दिख रही है. लेकिन पाकिस्तान स्थित इस पर जानकारी रखने वाले कहते हैं की भारत के आगामी लोक सभा चुनाव तक संबंध अच्छे नहीं हो सकते हैं। उन्होने कहा इमरान खान ने कई बार भारत से अच्छे संबंध बनाने की भरपूर कोशिश की लेकीन भारत ने कदम नहीं बढ़ाया।

नई दिल्ली ने कहा है कि पाकिस्तान आतंकवादी संगठनों को मुख्यधारा में लाने की कोशिश कर रहा है और दोनों पक्षों के बीच वार्ता पर इस्लामाबाद के बयान में कोई गंभीरता नहीं है। पाकिस्तान के प्रधान मंत्री द्वारा की गई टिप्पणियों पर भारत ने बातचीत की पेशकश से इनकार कर दिया है, इस पर नई दिल्ली में एक मीडिया क्वेरी का जवाब देते हुए, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने शुक्रवार को सवाल किया कि अगर पाकिस्तान वार्ता के लिए तैयार है, तो उसने इसके खिलाफ कोई कार्रवाई क्यों नहीं की मुंबई और पठानकोट के अपराधी अब तक के आज़ाद घूम रहे हैं।

प्रवक्ता ने पाकिस्तान से पूछा कि वह अभी भी अपने क्षेत्र को आतंकवादी समूहों, आतंकवादी संगठनों और आतंकवादियों द्वारा उपयोग करने की अनुमति क्यों दे रहा है, जो अभी भी चल रहा है यदि यह वार्ता के बारे में गंभीर है। श्री कुमार ने कहा, प्रतिबंधित संगठनों को प्रदान किया जा रहा स्पष्ट समर्थन अभी भी जारी है और इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, पाकिस्तान आतंकी संगठनों को मुख्यधारा में लाने की कोशिश कर रहा है।

भारत में अल्पसंख्यकों के उपचार पर इमरान खान के बयान पर, श्री कुमार ने कहा, पाकिस्तान को दुनिया का आखिरी देश होना चाहिए ताकि भारत बहुलता और समावेशी समाज के विषय पर व्याख्यान दे सके। उन्होंने कहा, सभी लोग पूरी तरह से जानते हैं कि भारत में अल्पसंख्यकों के साथ कैसा व्यवहार किया जा रहा है।

Top Stories