Sunday , December 17 2017

‘भारत-पाकिस्तान ‘कश्मीर समस्या’ हल कर लें ताकि हम जीवित रह सकें’: नीलम घाटी वासियों का फरयाद

‘नीलम का हर व्यक्ति भय और निराशा से पीड़ित है, यह जो बाज़ार में चलते फिरते नजर आ रहे हैं यह भी डरे हुए हैं, हम व्यापारी तिनका तिनका इकट्ठा करके व्यवसाय जमा करते हैं, हमारे पास तो कुछ विकल्प है ही नहीं हम शांति चाहते हैं ताकि अपने बच्चों का पेट पाल सकें युद्ध केवल दुख देती है और हम नई पीढ़ी को दुख से पीड़ित नहीं देख सकते। ‘पाकिस्तान और भारत कश्मीर समस्या हल कर लें ताकि हम जीवित रह सकें’।

मुजफ्फराबाद: पाकिस्तानी कश्मीर की स्वर्ग जैसी घाटी नीलम पर इन दिनों भय का माहौल है, यहां के निवासियों को हर समय इस बात का डर लगा रहता है कि कब सेना की ओर से फायरिंग शुरू हो जाए, इस डर ने उनके जीवन का चैन सुकून छीन रखा है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

नीलम घाटी के गांव केसरियां और भारतीय कश्मीर में लगभग 70 फुट चौड़ी नदी नीलम नियंत्रण रेखा बनाता है, डॉन न्यूज़ के प्रवक्ता ने लगभग 60 से 70 किलोमीटर की दूरी पर पाक- भारत तनाव और नियंत्रण रेखा पर गोलीबारी के बारे में घाटी नीलम के निवासियों के विचारों और जज़्बात को जानने की कोशिश की।
डॉन न्यूज़ के अनुसार मोहम्मद अक्सीर बट जो नीलम घाटी के निवासी हैं और 90 के दशक में इंडिया-पाकिस्तान के प्रत्यक्षदर्शी हैं, वे बताते हैं कि 14 वर्षीय फायरिंग के दौरान कई लोगों ने जानें गंवाईं, सैकड़ों लोग अपाहिज और घायल हुए करोड़ों की संपत्तियां नष्ट होने के साथ इंफ्रास्ट्रक्चर भी भारी हथियारों की चपेट में आकर समाप्त हुआ।
नीलम के हजारों लोगों के ज़हनों में दर्दनाक और भयानक यादें अभी ताज़ा ही थीं कि एक बार फिर तनाव की खबरें हैं और पूरी घाटी में अनिश्चितता जन्म ले चुकी है।
अक्सीर बट के अनुसार ‘लोग एक दूसरे से पूछते हैं कि अब हमारा क्या होगा? एलओसी पर फायरिंग की कल्पना ही हमारी आत्माओं को लरज़ा देत हैं, हम विनाश नहीं शांति चाहते हैं। ‘
ऊपरी नीलम घाटी के राजा मोहम्मद सोहेल भी उन हजारों लोगों में शामिल हैं जिन्हें LOC की फायरिंग चैन की साँस नहीं लेने देती, उनका कहना है कि ‘नीलम घाटी रोड भारतीय सेना की छोटी बंदूकों की चपेट में है, अगर गोलीबारी शुरू हुई तो घाटी की राजधानी मुजफ्फराबाद से सम्पर्क टूट जायेगा, जिसकी वजह से ज़रुरी वस्तुओं और खानपान की कमी पैदा होगी और महंगाई कई गुना बढ़ जाएगी। ‘
उनका कहना था कि गरीबी से जूझ रहे नीलम के हजारों परिवारों की खरीदने की शक्ति सीमित है और ‘नीलम घाटी रोड के बंद होने की वजह से नीलम की जनता भूख से मर सकते हैं। अतीत में भी फायरिंग की वजह से लोग एक सप्ताह भूख से लड़ते रहे और कई बच्चे कुपोषण के कारण हलाक हो गए थे। राजा मोहम्मद सोहेल का कहना था, कि ‘हम कभी नहीं चाहते कि ऐसा दौर फिर लौट आए जिससे हम सिसक सिसक कर मौत के गोद सो जाएँ, पाकिस्तान और भारत कश्मीर समस्या हल कर लें ताकि हम जीवित रह सकें।’
नियंत्रण रेखा के दोनों ओर वास्तुकला, रहन-सहन, भाषा, कपड़े, संस्कृति, अर्थव्यवस्था और यहां तक कि गरीबी भी एक जैसी ही है, दोनों पक्षों के लोग एक दूसरे से खूनी रिश्तों में भी जुड़े हुए हैं, दोनों पक्षों में गुजारा के लिए लोग माल मवेशी पालने के साथ सर्दियों के आने से पहले घास, मक्का, अखरोट, सेब व अन्य फलों से छह महीने के लिए राशि एकत्रित करते हैं, अब जबकि फसलें काटने और अखरोट चुनने का मौसम है तो तनाव इतनी बढ़ गई है कि घाटी नीलम में भय और निराशा की छाया लपक रहे हैं।
पाकिस्तान और भारत 70 वर्षों में 70 फुट की दूरी खत्म नहीं कर सके हालांकि दोनों पक्षों में आकाश पृथ्वी एक जैसे हैं और एक ही सूर्य किरने बिखेर रहा है, नियंत्रण रेखा के दोनों ओर प्रकृति की उदारता और प्रकृति की फ्रावानी और रवानी एक जैसी है मगर इंसान को इंसान से मिलने की इजाजत नहीं है।
स्वार्थ, झूठी आना और हितों के खोल में लिपटे राजनीतिक नेतृत्व, मानवता के सम्मान की दिशा में त्याग करने को तैयार नहीं और एलओसी से सटे 11 निर्वाचन क्षेत्रों में जीवन की पीड़ा काटने वाले लगभग 10 लाख मनुष्य का यही त्रासदी है।
उनका कहना था,कि ‘नीलम का हर व्यक्ति भय और निराशा से पीड़ित है, यह जो बाज़ार में चलते फिरते नजर आ रहे हैं यह भी डरे हुए हैं, हम व्यापारी तिनका तिनका इकट्ठा करके व्यवसाय जमा करते हैं, हमारे पास तो कुछ विकल्प है ही नहीं हम शांति चाहते हैं ताकि अपने बच्चों का पेट पाल सकें युद्ध केवल दुख देती है और हम नई पीढ़ी को दुख से पीड़ित नहीं देख सकते। ‘पाकिस्तान और भारत कश्मीर समस्या हल कर लें ताकि हम जीवित रह सकें’।

TOPPOPULARRECENT