भारत बायोटेक कोरोना वैक्सीन में मिलायेगा एक ऐसी चीज, बढ़ जायेगी आपकी रोग प्रधिरोधक क्षमता

भारत बायोटेक कोरोना वैक्सीन में मिलायेगा एक ऐसी चीज, बढ़ जायेगी आपकी रोग प्रधिरोधक क्षमता

देश में कोरोना वैक्सीन का निर्माण कर रही कंपनी भारत बायोटेक (Bharat Biotech) अपने कोरोना वैक्सीन को और बेहतर बनाने का प्रयास कर रही है. इसके लिए भारत बायोटेक ने कोवाक्सिन (Covaxin) में अलहाइड्रोक्सीक्मि 2 नाम का अंजुवट मिलायेगी. कंपनी का मानना है कि इसके मिलाने से इम्युनिटी और बढ़ जायेगी. इसके मिलाने से वैक्सीन की क्षमता बढ़ जायेगी. बता दें कि अंजुवट एक ऐसा एजेंट हैं जिसे वैक्सीन में मिलाने इम्युन पावर बढ़ जाता है. इसके लिए भारत बायोटेक को अनुमति भी मिल गयी है. भारत बायोटेक कि यह वैक्सीन के दूसरे दौर का ट्रायल चल रहा है.

भारत बायोटेक के एक अधिकारी ने बताया की ऐसा नहीं है कि पहली बार अजुवंट के रूप में एल्‍युमिनियम हाइड्रॉक्‍साइड का प्रयोग हो रहा है. इससे पहले भी कोरोना वैक्सीन विकसित करने के लिए अंजुवट का इस्तेमाल किया गया है. भारत बायोटेक ने अपनी वैक्सीन में अजुवंट्स की एमिडाजोक्यूनोलीन कैटेगरी का उपयोग किया गया है.

भारत में कब आएगा कोरोना वायरस संक्रमण का वैक्सीन और सबसे पहले इसका डोज किसे दिया जाएगा? इस सवाल के जवाब में रविवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि भारत सरकार कोविड-19 वैक्सीन (COVID-19 Vaccine) के तैयार होने पर इसके उचित और समान डिस्ट्रीब्यूशन को सुनिश्चित करने के लिए हर पल काम कर रही है. सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है कि वैक्सीन के देश के हर नागरिक तक पहुंचने को कैसे सुनिश्चित किया जाए. वैक्सीनेशन में कोविड-19 मैनेजमेंट में शामिल हेल्थकेयर वर्कर्स को प्राथमिकता दी जाएगी.

अपने ‘संडे संवाद’ के चौथे संस्करण में डॉ. हर्षवर्धन ने कोरोना वैक्सीन से जुड़े कई सवालों के जबाव दिए, जिनमें वैक्सीन ​की उपलब्धता का मुद्दा भी शामिल था. मंत्री ने कहा कि विशेषज्ञों का एक उच्चस्तरीय दल वैक्सीन से जुड़े हर पहलू पर ध्यान दे रहा है. हमारा एक मोटा-मोटा अनुमान और लक्ष्य होगा कि जुलाई 2021 तक लगभग 25 करोड़ लोगों को कवर करने के​ लिए कोरोना वैक्सीन की 40-50 करोड़ डोज मिल जाएं और उनका इस्तेमाल किया जाए.

सरकार के कोविड-19 इम्युनाइजेशन प्लान पर मंत्री ने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय एक फॉर्मेट तैयार कर रहा है. इस फॉर्मेट में राज्य उन प्राथमिकता वाले जनसंख्या समूहों की लिस्ट शामिल करेंगे, जिन्हें सबसे पहले वैक्सीन मिलनी चाहिए. राज्यों को प्राथमिकता वाले जनसंख्या समूहों की डिटेल्स अक्टूबर अंत तक भेजने को कहा गया है. कोविड19 इम्युनाइजेशन में शीर्ष प्राथमिकता पर फ्रंटलाइन हेल्थकेयर वर्कर्स को रखा जाएगा. मंत्री ने कहा कि वैक्सीन की खरीद केन्द्रीय स्तर पर की जा रही है और हर कंसाइनमेंट रियल टाइम में ट्रैक होगा. इंडियन वैक्सीन मैन्युफैक्चरर्स को सरकार का पूरा सहयोग दिया जा रहा है.

Top Stories