Monday , December 11 2017

भारत में मुसलमानों को अपनी मर्ज़ी से रहने की आज़ादी है : महमूद मदनी

गोवा: महमूद मदनी, भारत की सबसे बड़ी मुस्लिम संगठनों में से एक के जमीयत उलेमा हिंद महासचिव ने कहा, जब आप दुनिया भर में देखेंगे, तब पायेंगे कि भारतीय मुसलमान सबसे अच्छी जगह पर रह रहे हैं। महमूद मदनी  इंडिया फाउंडेशन के वार्षिक सम्मेलन में बोल रहे थे |

“भारतीय मुसलमानों अच्छी हालत में हैं। मैं भौतिक लाभ के संदर्भ में बात नहीं कर रहा, लेकिन उस स्वतंत्रता की बात कर रहा हूँ जो उन्हें प्राप्त है। वे अपनी पसंद के हिसाब से रह रहे हैं, “उन्होंने कहा।

मदनी ने यह भी दावा किया कि भारत में दुनिया की सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी है। “एक मुसलमान के रूप में मैं पूरे विश्वास के साथ कह सकता हूँ कि दुनिया की सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी भारत में है । कुछ लोग इस के खिलाफ यह भी दावा कर सकते हैं कि इंडोनेशिया में मुस्लिम आबादी ज्यादा है, लेकिन मैं जो कह रहा हूँ उसके बारे में आश्वस्त हूँ, “उन्होंने कहा।

 

Idea India

मदनी ने उन लोगों पर भी निशाना साधा जो सभी परेशानियों की जड़ मुल्ला-मौलिवियों को बताते हैं और कहा कि दो राष्ट्रों के सिद्धांत का विचार एक मुल्ला से नहीं आया था | “पाकिस्तान बनाने का और दो राष्ट्र सिद्धांत किसका विचार था? निश्चित रूप से वह एक मुल्ला नहीं था, “उन्होंने कहा।

जमीयत नेता ने इस पर भी जोर दिया कि भारत में इस्लाम शांति के माध्यम से आया न कि तलवार के माध्यम से। “भारत में इस्लाम सूफी मत के साथ आया था, बादशाहों के साथ नहीं। इस्लाम सत्ता धारण या सरकार की स्थापना के लिए नहीं है। यह हमारे जीने के  तरीके में सुधार करने के लिए आया था। यह अकबर और बाबर के साथ नहीं, बल्कि चिश्ती और औलिया के साथ आया था। ”

“मुझे बताया गया था मुसलमान एक समस्या है। लेकिन क्या भारत में मुसलमानों की उपस्थिति एक समस्या है या वे मुल्क के लिए धरोहर है? कौन तय करेगा? यह फैसला मुसलमान करेंगे कि वे देश के लिए एक दायित्व हैं या एक धरोहर, “उन्होंने कहा।

 

TOPPOPULARRECENT